वाराणसी: इन दो योजनाओं से गालियाँ होंगी स्मार्ट और इमारतें हो जायेंगी ऊँची

Smart News Team, Last updated: 05/10/2020 07:02 PM IST
  • वाराणसी शहर को स्मार्ट बनाने की तैयारियों में दो तरह के प्लान टीपीएस (टाउन प्लानिंग स्कीम) व एलएपी (लोकल एरिया प्लान) पर काम चालू कर दिया गया है. प्राधिकरण की ओर से नित्य नई योजनाओं पर सर्वे और प्लानिंग पर काम किया जा रहा है.
वाराणसी शहर को दिनों दिन स्मार्ट बनाने की कार्यविधि चालू 

वाराणसी: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी शहर को दिनों दिन स्मार्ट बनाने की कार्यविधि चालू है. शासन व कार्यदायी संस्था वाराणसी विकास प्राधिकरण की ओर से नित्य नई योजनाओं पर सर्वे और प्लानिंग पर काम किया जा रहा है. अब शहर को स्मार्ट बनाने की तैयारियों में दो तरह के प्लान टीपीएस व एलएपी पर काम चालू कर दिया गया है. पहला-टीपीएस यानी टाउन प्लानिंग स्कीम के तहत रिंग रोड, मोहन सराय व रामनगर में भूमि भी चिन्हित कर ली गई है.

वहीं पुरानी काशी के पुनर्विकास के लिए लोकल एरिया प्लान नाम से ब्लू प्रिंट तैयार है जिससे अस्सी क्षेत्र का पुनर्विकास किया जाएगा.इसमें क्षेत्र की गलियों में पेयजल, अंडर ग्राउंड बिजली, हेरिटेज स्ट्रीट पोल व सीवेज की सुविधाओं को बेहतर करते हुए तंग गलियों को भी चौड़ा करने पर काम किया जाएगा. इसके लिए किसी की जमीन भी दायरे में आती है तो वीडीए से मकान की अतिरिक्त मंजिल बनाने की स्वीकृति दी जाएगी. उक्त दोनों प्लानों को लेकर केवल सर्वे के लिए ही दो करोड़ रुपये मंजूर किये गए हैं. इसके लिए भारत सरकार के उपक्रम के तौर पर प्रसिद्ध अहमदाबाद की कंपनी सेप्ट संस्था को जिम्मेदारी सौंपी गई है.

वाराणसी: हाई सिक्योरिटी प्लेट से पुलिस व को चकमा ना दे सकेंगे वाहन चालक

प्रस्ताव के अनुसार क्रमिक विकास के दायरे में आने वाली पुरानी काशी के पुनर्विकास की परिकल्पना पूर्ण होने में 50 वर्ष का समय भी लग सकता है. इसके अलावा शासन की मंशानुसार वीडीए की ओर से शहर की तमाम जगह योजनाओं को मूर्त रूप देने पर कार्य शुरू कर दिया गया है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें