वाराणसी: देश को एक सूत्र में जोड़ने के लिए गांव-गांव तक जाएंगे रामपंथ के आचार्य

Smart News Team, Last updated: 13/12/2020 10:34 AM IST
  • श्रीराम की आस्था को जन-जन तक पहुंचाने के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय कार्यकारिणी सदस्य इंद्रेश कुमार ने नवरात्रि के पहले दिन श्रीराम पंथ का शुभारंभ किया था. रामपंथ के आचार्य अब गांव-गांव जाकर श्रीराम के लीला के बारे में लोगो को ज्ञान देंगे.
रामपंथ के आचार्य श्री राम की बाते गांवो-गांव तक पहुंचाएगे.

वाराणसी: भारत के लोगों के सांस्कृतिक सीमाओं से जोड़ने के लिए काशी के रामपंथ आचार्य सांस्कृतिक आंदोलन का आयोजन करेंगे. शनिवार को वनारस के लमही में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय कार्यकारिणी सदस्य इंद्रेश कुमार ने कहा, कि देश को एकसूत्र में बांधने के लिए रामपंथ के आचार्य देश के गांव-गांव तक जाएंगे. जिसके जरिए लोगों के बीच सांस्कृतिक दूरी को खत्म किया जा सके. इंद्रेश कुमार ने ये बातें श्रीराम आश्रम में रामपंथ की कार्ययोजना के शुभारंभ मौके पर कही हैं.

कुमार ने कहा कि रामपंथ सभी जातियों, धर्मों, पंथों और समयुदाय के बीच मार्ग बनने की कोशिश करेंगा. जिससे लोगों के बीच में पैदा होनें वाली असमानता को खत्म किया जा सके. रामपंथ सांस्कृतिक पुनर्जागरण के जरिए जाति व्यवस्था को खत्म करने का कार्य करेंगा. आचार्य रामपंथ समाज को धार्मिक हिंसा से मुक्ति दिलाने और समाज के भेदभाव से मुक्त करने का प्रयास करेंगा. साथ ही रामपंथ का अपना विश्वविद्यालय स्थापित किया जाएगा. जहां पर लोगों के भारतीय सांस्कृति की पहचान करायी जाएगी.

बनारस में होगा धर्मार्थ कार्य विभाग का निदेशालय, कैबिनेट की मिली मंजूरी

कार्ययोजना के शुभारंभ मौके पर कुमार ने अपनी पुस्तक छूआछूत मुक्त समरस भारत का लोकार्पण किया गया. उन्होंने कहा कि यह पुस्तक लोगों को एक साथ जोड़ने का प्रयास करेंगी. इस मौके पर श्रीराम आश्रम के प्रमुख डॉ. राजीव ने देश को लोगों के जनवरी में काशी में जुटने के लिए कहा. शुभारंभ मौके पर चट्टो बाबा, अर्चना भारतवंशी, प्रो. एसपी सिंह, नाजनीन अंसारी, नजमा परवीन, डॉ. मृदुला जायसवाल, मो. अजहरूद्दीन, डॉ. मुकेश प्रताप सिंह, इली भारतवंशी, खुशी भारतवंशी, उजाला भारतवंशी, आदि लोग मौजूद रहे.

काशी विश्वनाथ मंदिर में पूजा करने पर प्रियंका गांधी के खिलाफ दर्ज केस खारिज

वाराणसी नाव हादसा: चारों शवो को बरामद किया, अभिषेक का शव जानकी घाट से मिला

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें