नेचुरल वे : 7 दिन में हो जाएगा तैयार, खुलेगा सारनाथ डियर पार्क के जंगल की सैर का रास्ता

Mithilesh Kumar Patel, Last updated: Sat, 11th Dec 2021, 3:46 PM IST
  • पर्यटक को बढ़ावा देने के लिए सारनाथ डीयर पार्क के जंगल में 1 किमी प्राकृतिक रास्ता (नेचुरल वे) बनाने का काम चल रहा है. बताया जा रहा है कि यह रास्ता करीब एक सप्ताह में बनकर तैयार हो जाएगा. फिर यहां पहुंचने वाले पर्यटक जंगल में बनाए इन रास्तों पर चलकर नजदीक से वन्य जीवों को देख व महसूस कर सकेंगे.
वन्य जीव

वाराणसी. वाराणसी में पर्यटन के लिहाज से मशहूर अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन स्थल सारनाथ का डीयर पार्क इन दिनों पर्यटको को अपनी ओर आकर्षित करने की तैयारियों में जुटा हुआ है. वन विभाग की तरफ से डीयर पार्क के जंगल में पर्यटकों को घूमने के लिए एक प्राकृतिक रास्ता (नेचुरल वे) बना रहा है. इस नेचुरल वे पर सैर कर सैलानी वन्य जीवों को नजदीक से देख सकेंगे. फिलहाल नेचुरल वे बनाने का काम तेजी से किया जा रहा है. जल्द ही करीब एक सप्ताह में डीयर पार्क के जंगल मे ये प्राकृतिक रास्ता बनकर तैयार हो जाएगा.

अपने आकर्षण से पर्यटकों को लुभाने के लिए सारनाथ में आए दिन तरह तरह के प्रयोग किए जाते रहे हैं. इसी कड़ी में डीयर पार्क के जंगल में करीब 5 लाख 75 हजार रूपए की लागत से एक किलोमीटर लंबा और लगभग ढाई फ़ीट चौड़ा प्राकृतिक रास्ता बनाने का काम चल रहा है. इस रास्ते के दोनों तरफ मजबूत दीवार या लोहे की एंगल लगाकर करीब 6 फीट की जाली लगाई जाएगी. जिससे यहीं आने वाले पर्यटको को बिल्कुल नजदीक से वन्यजीवों की अद्भूत अदाकारी, उनका व्यवहार और सुंदर नजारा देखने के साथ साथ महसूस करने को मिलेगा.

लेजर शो और आतिशबाजी से जगमग होगा काशी विश्वनाथ, सरकार से लेकर संगठन तैयारियों में जुटा

पर्यटक को बढ़वा देने के उद्देश्य से प्राकृतिक रास्ता बनाकर किये जा रहे प्रयोग पर वन क्षेत्रधिकारी अरुण कुमार उपाध्याय ने कहा है कि  नेचुरल वे को इस प्रकार डिजाइन किया गया है कि यहां आने वाले पर्यटकों को सैर के दौरान ये महसूस होने लगेगा कि वो वाकई असल में जंगल की सैर करने निकले हैं. सैर के दौरान जंगली जीवों का मोहक दृश्य देखने के साथ कुछ सावधानियां बरतने को कहा है. वन क्षेत्रधिकारी उपाध्याय ने बताया है कि डीयर पार्क के जंगल में प्राकतिक रास्ते पर भ्रमण करते समय यहां के पर्यटक वन्य जीवों को कुछ भी खिलाने की अनुमति नहीं है. हालांकि इसकी निगरानी के लिए वनकर्मी इस दायरे में तैनात रहेंगे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें