काशी विश्वनाथ धाम लोकार्पण के चलते 13 दिसंबर को स्कूल बंद, वाराणसी पहुंचेंगे खास मेहमान

Anurag Gupta1, Last updated: Sat, 11th Dec 2021, 6:56 AM IST
  • 13 दिसंबर को काशी विश्वनाथ धाम का लोकार्पण होगा. काशी विश्वनाथ धाम के लोकार्पण के चलते 13 दिसंबर को स्कूल बंद रहेंगे. काशी विश्वनाथ धाम लोकार्पण कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित 3000 विशेष अतिथि शहर में मौजूद रहेंगे.
काशी विश्वनाथ का मुख्य द्वार (फोटो)

वाराणसी. काशी विश्वनाथ धाम का लोकार्पण कार्यक्रम 13 दिसंबर होना तय है. इस ऐतिहासिक अवसर पर शहर में 3000 से अधिक अति विशिष्ट अतिथियों का आवागमन रहेगा. जिसको देखते हुए जिला प्रशासन ने इस दिन सरकारी व गैर सरकारी स्कूलों को बंद रखने का फैसला किया है. जिससे किसी भी छात्र-छात्राओं को किसी तरह की दिक्कत का सामना न करना पड़े.

बता दें 13 दिसंबर को लोकार्पण कार्यक्रम के चलते शहर में अति विशिष्ट अतिथि शहर में मौजूद रहेंगे. अतिथियों को किसी तरह की दिक्कत का सामना न करना पड़े इसके लिए जिला प्रशासन ने रोड मैप तैयार कर लिया है. शहर में विशेष मेहमानों के आवागमन के चलते सड़कों पर जाम की स्थिति न बने इसके लिए रूटों का डायवर्जन भी किया गया है. स्कूली बच्चों को किसी तरह की दिक्कत न हो इसके लिए 13 दिसंबर को स्कूल बंद कर दिया गया. अनुमान है 12 से 3 के अतिथि के आने के चलते सड़कों पर काफी लोड बढ़ सकता है और स्कूल छुटने का भी वही समय होता है इसलिए जिला प्रशासन व्दारा ये फैसला लिया गया है.

काशी विश्वनाथ कॉरिडोरः मंदिर में आज खत्म होगा काम, फिर 30 घंटे का स्वच्छता अभियान

51 हजार स्थानों पर लाइव प्रसारण:

13 दिसंबर को काशी विश्वनाथ धाम लोकार्पण के बाद से एक महीने यानी 12 जनवरी तक 30 कार्यक्रम होंगे. जिस अलौकिक आयोजन को देशभर के 15444 मंडलों में 51 स्थानों पर लाइव दिखाया जाएगा. साथ ही पांच लाख घरों से संपर्क कर दीप जलाने का आह्वान किया जाएगा. सात लाख घरों तक पुस्तिका और प्रसाद वितरण होगा.

प्रधानमंत्री भी होंगे शामिल:

13 दिसंबर को काशी विश्वनाथ लोकार्पण कार्यक्रम के मौके पर प्रधानमंत्री भी मौजूद रहेंगे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व्दारा लोकापर्ण के मौके पर नगर के देवालय शिवालयों मंदिरों में दिवाली जैसा उत्सव मनाने का निर्णय लिया गया है. देवालय , शिवालय में 1001 दीप जलाए जाएंगे और मंदिरों में जलाभिषेक के साथ भजन कीर्तन के कार्यक्रम भी होंगे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें