वाराणसी: ग्यारह सूत्री माँगों को लेकर 24 घंटे उपवास पर बैठेंगे शिक्षक

Smart News Team, Last updated: 01/10/2020 02:48 PM IST
  • कोरोना महामारी काल में आर्थिक सहायता देने व वेतन निर्धारण सहित 11 सूत्रीय मांगों को लेकर चार सितंबर को डीएम के माध्यम से राज्यपाल को ज्ञापन भी भेजा जा चुका है. पर अब तक कोई कार्यवाही नहीं हुई.
धरना

वाराणसी: पुरानी पेंशन लागू करने, वित्तविहीन शिक्षकों को उनका हक दिलाने, शिक्षकों के एनपीएस खातों को 30 सितंबर तक पूरा कर उनके खातों में सरकारी धनराशि जमा करने समेत ग्यारह सूत्री मांगों के लिए माध्यमिक शिक्षक संघ अगस्त माह से लगातार अभियान चल रहा है. इसी क्रम में एक अक्टूबर से दो अक्टूबर महात्मा गांधी जयंती को शिक्षक जेडी कार्यालय के सामने उपवास रख धरना देंगे.

राहुल गांधी-प्रियंका गांधी को हाथरस जाने से रोकने के लिए हर रूट पर पुलिस

मिर्जापुर स्थित बीएलजे इंटर कालेज में हुई बैठक में कार्यक्रम की रूपरेखा तय की गई. शिक्षक संघ के प्रदेश मंत्री राजेंद्र तिवारी ने बताया कि शिक्षकों की 11 सूत्रीय मांगे हैं. जिसमें वित्त विहीन शिक्षकों की समस्या एवं पुरानी पेंशन योजना की बहाली की मांग प्रमुख है. वित्त विहीन विद्यालयों में कार्यरत शिक्षकों को समझौते के बाद भी आज तक मानदेय नहीं दिया गया है.

मोटर वाहन अधिनियम में आज से लागू नए बदलाव, रद्द हो सकता है ड्राइविंग लाइसेंस

वहीं माध्यमिक शिक्षक संघ के मंडल अध्यक्ष संत सेवक सिंह और मंडल मंत्री शिवमूरत यादव ने बताया कि वित्तविहीन शिक्षकों- कर्मचारियों को कोरोना महामारी काल में आर्थिक सहायता देने व वेतन निर्धारण सहित 11 सूत्रीय मांगों को लेकर चार सितंबर को डीएम के माध्यम से राज्यपाल को ज्ञापन भी भेजा जा चुका है पर अब तक कोई कार्यवाही नहीं हुई.

ऐसे में आंदोलन के दूसरे चरण में माँगों को लेकर मंडल के सभी जिलों से पांच-पांच शिक्षक एक अक्टूबर को दोपहर में एक बजे से दो अक्टूबर गांधी जयंती तक 24 घण्टे का उपवास कर वाराणसी स्थित संयुक्त शिक्षा निदेशक कार्यालय पर बैठेंगे. इसके बाद भी कार्यवाही नहीं हुई तो आंदोलन को आगे बढ़ाया जाएगा.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें