वाराणसी: BHU में मरीजों के सुसाइड पर CM योगी सख्त, कहा- प्रतिष्ठा का ख्याल रखें

Smart News Team, Last updated: Sat, 29th Aug 2020, 10:47 PM IST
  • वाराणसी में समीक्षा बैठक के दौरान सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि BHU अपनी पूरी क्षमता का उपयोग करे और अपने गौरव और प्रतिष्ठा का ख्याल रखते हुए उसके अनुसार रिजल्ट भी दे.
BHU में समीक्षा बैठक के दौरान सीएम योगी आदित्यनाथ.

वाराणसी. BHU में कोविड हॉस्पिटल में पिछले दिनों दो मरीजों के सुसाइड की घटना को चिंताजनक बताते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को बैठक के दौरान यूनिवर्सिटी को नसीहते दी. सीएम ने कहा कि BHU अपनी पूरी क्षमता का उपयोग करे और अपने गौरव और प्रतिष्ठा का ख्याल रखते हुए उसके अनुसार रिजल्ट भी दे. बता दें कि सीएम योगी दो दिवसीय दौरे पर शनिवार शाम वाराणसी पहुंचे. पहुंचते ही सबसे पहले वह BHU गए. वहां उन्होंने कोरोना महामारी से बचने के लिए हो रहे व्यवस्थाओं और उपायों की समीक्षा की.

वाराणसी: BHU सेंट्रल ऑफिस पहुंचे योगी आदित्यनाथ, कोविड की तैयारियों को लेकर बैठक

मुख्यमंत्री ने बैठक के दौरान BHU के दो मरीजों के सुसाइड का जिक्र करते हुए बोले कि इससे गलत संदेश गया है. अगर डॉक्टर और स्टाफ वार्ड में विजिट करें तो मरीज की स्थिति का पता चलता रहता है. उसके अनुसार ही मैनेज किया जाए तो ऐसी घटना नहीं होगी. सीनियर फैकल्टी राउंड करें. उन्होंने कहा कि BHU पूर्वी उत्तर-प्रदेश के साथ ही इससे लगे दूसरे राज्यों के मरीजों के इलाज के लिए सर्वश्रेष्ठ माना जाता है.

कोरोना अनलॉक 4 की गाइडलाइन जारी, जानिए क्या मिली छूट, किस पर पाबंदी

मुख्यमंत्री ने कहा कि सवा महीने में ही दूसरी बार BHU आने का यही कारण है कि महामारी से बचाव को पूरी क्षमता और जज्बा से काम किया जाए. उन्होंने भरोसा दिलाया कि राज्य सरकार से जो सहायता चाहिए वह सब मिलेगी. साथ ही यह भी कहा कि इसके अच्छे परिणाम दिखाई देने चाहिए.

वाराणसी: गंगा का जलस्तर चेतावनी बिंदु से 3 मीटर दूर, वरुणा किनारे वाले सहमे

मुख्यमंत्री ने आदेश दिया कि आईसीयू के 150 बेड यहां तैयार किया जाए. कोविड सैंपलिग की जांच रिपोर्ट 24 घंटे में आ जाए, ताकि पॉजिटिव मरीज का जल्द से जल्द इलाज शुरू हो जाए. उन्होंने सैपलिंग बढ़ाने पर जोर देते हुए कहा कि वाराणसी में प्रतिदिन 4000 से 4500 हजार तक टेस्टिंग हो. BHU में ओपीडी की क्षमता बढ़ाई जाए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें