ग्राम प्रधान की शिकायत करने पर बीजेपी कार्यकर्ता की पिटाई, जांच को गए अफसर भागे

Smart News Team, Last updated: Fri, 11th Sep 2020, 8:43 PM IST
  • वाराणसी के चिरगई गांव में ग्राम प्रधान के खिलाफ चल रही पंचायत में ग्राम प्रधान के समर्थकों ने शिकायत करने वाले बीजेपी कार्यकर्ता को पीट दिया. जांच करने गए अधिकारी चौपाल छोड़ भागे. घायल बीजेपी कार्यकर्ता ने ग्राम प्रधान के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया.
वाराणसी में बीजेपी कार्यकर्ती की पिटाई हुई.

वाराणसी. बनारस के एक गांव की पंचायत में उस समय हंगामा मच गया जब ग्राम प्रधान के समर्थकों ने बीजेपी कार्यकर्ता की पिटाई कर दी. जिसे देखकर जांच करने गए अधिकारी भी वहां से रफूचक्कर हो गए. घायल बीजेपी कार्यकर्ता ने पुलिस थाने में रिपोर्ट लिखवा दी है. पुलिस इस मामले की जांच कर रही है.

ये मामला वाराणसी के चिरगई गांव का है. जहां ग्राम प्रधान गायत्री पाल के खिलाफ बीजेपी कार्यकर्ता नेमचन्द्र मौर्या ने जिलाधिकारी से शिकायत कर दी थी. नेमचन्द्र ने जिलाधिकारी से ग्राम प्रधान के खिलाफ दो जगहों से वेतन लेने और विकास के कामों में गड़बड़ी की जांच की मांग की थी. गुरूवार को इस मामले की जांच एडीपीआरओ उपेन्द्र कुमार पाण्डेय गांव के पंचायत भवन में खुली चौपाल लगाकर कर रहे थे. 

जमीन विवाद से परेशान आदमी ने जन सुनवाई में अफसर के सामने गर्दन पर रखा चाकू

खुली चौपाल में नेमचन्द्र मौर्या भी पहुंच गया. ग्रामीणों के अनुसार, जैसे ही ग्राम प्रधान के समर्थकों ने देखा, उसे पीटना शुरू कर दिया. मारपीट को देखकर जांच अधिकारी भी वहां से खिसक गए. घायल नेमचंद्र मौर्या ने चौबेपुर थाने में ग्राम प्रधान प्रतिनिधि, ग्राम पंचायत सचिव समेत 8 और 20 अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दायर करवाया. पुलिस ने इस घटना की जांच शुरू कर दी है. 

वाराणसी में मोबाइल छिनने वाले दो बदमाशों को CCTV फुटेज की मदद से पकड़ा

नेमचन्द्र की शिकायत पर गांव में जांच करने गए एडीपीआरओ उपेन्द्र कुमार पाण्डेय ने बताया कि ग्राम प्रधान के समर्थकों ने जांच करने की कार्यवाही को बाधित किया. इसके बावजूद प्राथमिक जांच में ग्राम प्रधान को दो जगहों पर काम का मानदेय लेने का आरोप सही पाया गया है. मामले की रिपोर्ट तैयार हो चुकी है. डीपीआरओ के छुट्टी से लौटने के बाद आगे की कार्यवाही की जायेगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें