वाराणसी: कब्रिस्तान में शव दफनाने को लेकर दो समुदाय में विवाद, तनाव, पुलिस तैनात

Smart News Team, Last updated: Fri, 22nd Jan 2021, 7:33 PM IST
  • शुक्रवार को सुबह मुन्नू शाह के एक माह के पुत्र की मौत हो गई जिसे दफन करने के लिए गाव के लोग कब्रिस्तान में कब्र खोदने लगे. जिसे महेंद्र और उनके कुछ साथी कब्रिस्तान खोदने से रोक दिए इसी कारण विवाद बढ़ता गया.
वाराणसी: कब्रिस्तान में शव दफनाने को लेकर दो समुदाय में विवाद, तनाव, पुलिस तैनात (प्रतीकात्मक तस्वीर)

वाराणसी: फूलपुर थाना क्षेत्र के सराय गाँव में शुक्रवार को सुबह कब्रिस्तान की जमीन को लेकर दो समुदाय आमने सामने हो गए हालांकि प्रशासन की सक्रियता और कुछ समाजसेवियों की पहल पर थोड़ी देर में विवाद सुलझ गया लेकिन गाँव में तनाव बरकरार है. बताते चलें कि सराय गाँव के बाहर नदी किनारे वर्षो पुराना कब्रिस्तान है जिसमे से कुछ भाग रामजियावन को भूदान समिति से पट्टा मिल गया पट्टे के काफी वर्ष बाद भी रामजियावन कब्जा लेने नही गए बाद में उन्होंने उक्त जमीन सराय गाँव की ही कुसुमलता पटेल पत्नी महेंद्र पटेल को बेच दिया.

शुक्रवार को सुबह मुन्नू शाह के एक माह के पुत्र की मौत हो गई जिसे दफन करने के लिए गाव के लोग कब्रिस्तान में कब्र खोदने लगे. जिसे महेंद्र और उनके कुछ साथी कब्रिस्तान खोदने से रोक दिए इसी कारण विवाद बढ़ता गया. बाद में सराय के ग्राम प्रधान जगदीश पटेल व धरसौना गाँव के प्रधान मनीष चौबे और कुछ सभ्रांत लोगों ने समझा बुझा कर मामला हल कराया. इस बीच तहसीलदार पिंडरा रामनाथ थाना प्रभारी धीरेन्द्र सिंह मयफोर्स पहुचे और कब्रिस्तान में मुर्दा दफन करने का आदेश दिए. 

वाराणसी : 13 से 22 फरवरी के बीच होगी यूपी बोर्ड की प्रायोगिक परीक्षाएं

तब जाकर मामला शांत हुआ हलाकि गाव में अभी भी तनाव बना हुआ है. तहसीलदार रामनाथ ने बताया कि सराय गाँव में शव दफन करने को लेकर दो पक्षों में विवाद हो गया था, सूचना पर हम लोग पहुचे और गाँव के कुछ सभ्रांत लोगों से बातचीत कर मामला हल कराये और शव को दफन करवाया. वही सीओ पिंडरा अभिषेक पांडेय ने बताया कि कोर्ट में मामला विचाराधीन है. निर्णय आने तक यथा स्थिति बनी रहेगी.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें