विश्वनाथ धाम होगा UP का सबसे बड़ा पर्यटन केंद्र, अयोध्या और विंध्याचल को जोड़कर नया सर्किट बनाने की तैयारी

ABHINAV AZAD, Last updated: Fri, 10th Dec 2021, 9:34 AM IST
  • योगी सरकार विश्वनाथ धाम से विंध्य धाम और अयोध्या के राम मंदिर को जोड़कर सर्किट बनाने जा रही है. इस सर्किट का काम पूरा हो जाने के बाद यह उत्तर प्रदेश का सबसे बड़ा पर्यटन केंद्र बन जाएगा.
अयोध्या और विंध्याचल को जोड़कर नया सर्किट बनाया जाएगा.

वाराणसी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र वाराणसी अब उत्तर प्रदेश का सबसे बड़ा पर्यटन केंद्र होगा. दरअसल, प्रदेश की योगी सरकार विश्वनाथ धाम से विंध्य धाम और अयोध्या के राम मंदिर को जोड़कर सर्किट बनाने जा रही है. धर्मार्थ कार्य विभाग के नेतृत्व में पर्यटन और लोक निर्माण विभाग संयुक्त रूप से कार्य योजना तैयार कर रहे हैं. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने काशी विश्वनाथ व राम मंदिर को सर्किट के माध्यम से जोड़ने के लिए कई निर्देश दिए हैं.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पिछले दिनों धार्मिक स्थलों के पर्यटन पर जोर देते हुए कहा है कि 2017 के बाद से जितने धार्मिक स्थल विकसित हुए हैं, उन सभी को एक साथ जोड़ कर पर्यटकों की पहुंच आसान बनाई जाए. सीएम योगी ने निर्देश दिया कि इसके लिए संबंधित विभाग आपस में समन्वय बनाते हुए प्रभावी योजना बनाएं. बताया जा रहा है कि विश्वनाथ धाम के लोकार्पण के बाद धर्मार्थ कार्य विभाग तीनों स्थलों को सड़क, रेल और वायु के जरिए जोड़ने पर कार्य योजना तैयार करेगा.

वाराणसी: दिसंबर में तीन बार अपने संसदीय क्षेत्र आएंगे PM मोदी, काशी को मिलेगी करोड़ों की सौगात

मिली जानकारी के मुताबिक, काशी विश्वनाथ धाम के लोकार्पण पर बनारस में आयोजित तीन दिवसीय टूर ऑपरेटर सम्मेलन में भी इस सर्किट के प्रस्ताव पर चर्चा होगी. साथ ही ऑपरेटरों से इस सर्किट के प्रचार प्रसार के संबंध में सुझाव भी लिए जाएंगे. इसके लिए एक पैकेज पर भी मंथन होगा. बहरहाल, पर्यटन विभाग इस संबंध में एक फिजिबिलिटी रिपोर्ट तैयार कर रहा है. गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 13 दिसंबर को 'काशी विश्वनाथ धाम' यानी काशी विश्वनाथ कॉरिडोर का उद्घाटन करेंगे. इस अवसर पर बीजेपी शासित राज्यों के मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री और देश भर के 3000 से अधिक धर्माचार्य, संत तथा अन्य गणमान्य लोग उपस्थित रहेंगे. साथ ही इस समारोह का 51 हजार से अधिक स्थानों पर लाइव प्रसारण किया जाएगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें