वाराणसी में नए निर्देशों के साथ वीकेंड कर्फ्यू खत्म, जानें क्या खुला और क्या बंद

Smart News Team, Last updated: Sat, 15th May 2021, 10:52 AM IST
  • वाराणसी में वीकेंड कर्फ्यू को अब लागू नहीं किया जाएगा. जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने वीकेंड कर्फ्यू को हटाते हुए हफ्ते के सातों दिनों के लिए एक समान नियम लागू करने का आदेश जारी किया है.
वाराणसी में नए निर्देशों के साथ वीकेंड कर्फ्यू खत्म, जानें क्या खुला और क्या बंद

वाराणसी: उत्तर प्रदेश के वाराणसी में लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए लगाए गए सप्ताहांत यानी वीकेंड कर्फ्यू को अब लागू नहीं किया जाएगा. जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने वीकेंड कर्फ्यू को हटाते हुए हफ्ते के सातों दिनों के लिए एक समान नियम लागू करने का आदेश जारी किया है. जारी किए गए आदेश के अनुसार दूध, फल, सब्जी और अनाज की दुकानों के साथ मिठाई, आबकारी और भोजन की सामग्री की दुकानें दोपहर एक बजे तक खोली जा सकेंगी. शनिवार से सोमवार तक पहले वाले आदेश अब मान्य नहीं होंगे.

जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने बताया कि 10 मई को जारी आदेश ही अब सप्ताहांत पर भी लागू होंगे. पहले शुक्रवार की रात आठ बजे से मंगलवार की सुबह सात बजे तक दूध, सब्जी, फल के अलावा सभी दुकानों को बंद रखने का आदेश था. मगर, कोरोना संक्रमण की कम हुई रफ्तार और अचानक बाजार खुलने से जुटने वाली भीड़ से बचने के लिए पूरे सप्ताह एक समान नियम का आदेश दिया गया है. इसमें दूध, सब्जी, फल, अनाज की फुटकर दुकानें, आबकारी, मिठाई और भोजन सामग्री की दुकानें सातों दिन दोपहर एक बजे तक खुलेंगी.

पूर्व IAS सूर्य प्रताप सिंह PM मोदी और CM योगी पर बिफरे, ट्वीट कर तंज कसा

जारी आदेश के मुताबिक औद्योगिक गतिविधियों और हार्डवेयर की दुकानों को सामान्य दिनों की तरह खोल सकेंगे. इसके अलावा पहले से प्रतिबंधित सभी तरह की दुकान, शॉपिंग कॉम्प्लेक्स, मॉल, व्यापारिक प्रतिष्ठान, धार्मिक प्रतिष्ठान को बंद रखा जाएगा. आदेश में किसी भी तरह की सार्वजनिक व धार्मिक गतिविधियां करने पर पाबंदी लगाई गई है. वहीं चिकित्सा सुविधाओं से जुड़े अस्पताल, दुकान, जांच केंद्र,  एम्बुलेंस, मेडिकल सप्लाई में लगे आवश्यकताओं के तहत सभी कुरियर, ट्रांसपोर्ट ऑफिस पर प्रतिबंध नहीं लगाया गया है.

वाराणसी: पिंडरा में जमीनी विवाद को लेकर दो पक्ष भिड़े, पुलिस के साथ दुर्व्यवहार का आरोप, चार गिरफ्तार

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें