गंगा किनारे बसे इन लोगों को शव का दाह संस्कार करने पर मिलेंगे इतने हजार रुपए

Smart News Team, Last updated: Mon, 17th May 2021, 12:05 AM IST
  • वाराणसी जिले में गंगा किनारे बसे गांवों में गरीब लोगों को मृतकों का दाह संस्कार करने के लिए जिला प्रशासन की ओर से पांच हजार रूपये दिए जाएंगे. जिलाधिकारी के अनुसार 40 लोगों को इसके लिए चिह्नित किया जा चुका है. इन्हें राशि प्रदान करने की प्रक्रिया चल रही है.
गंगा किनारे बसे गांव में गरीब लोगों को दाह संस्कार के लिए मिलेगी आर्थिक मदद

वाराणसी. उत्तर प्रदेश के वाराणसी जिले में गंगा किनारे बसे गांवों में आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को मृतकों का दाह संस्कार करने के लिए पांच हजार रुपये दिए जाएंगे. गांवों को यह आर्थिक मदद जिला प्रशासन की ओर से दी जाएगी. बीते दिनों में यूपी और बिहार के जिलों से गंगा नदी में कोरोना मृतकों के शव को बहते हुए पाया गया था. इस घटना को देखते हुए यह फैसला प्रशासन ने लिया है.

इस फैसले के तहत आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को चिह्नित करने का कार्य शुरू हो गया है. जिलाधिकारी कौशलराज शर्मा के अनुसार 40 लोगों को अभी तक चिह्नित किया जा चुका है. जिन्हें धनराशि देने की प्रक्रिया चल रही है. इसके लिए जिला प्रशासन ने ग्राम पंचायत सचिवों को निर्देश दिया है कि वे ग्राम पंचायत निधि से फंड जारी करके लोगों को राशि उपलब्ध कराए.

शिक्षक संघ की मांग- पंचायत चुनाव के दौरान मरने वाले टीचरों को मिले ये सुविधाएं

जिलाधिकारी ने आदेश दिया है कि गंगा किनारे और उसके आस-पास बसे गांवों में यदि आर्थिक रूप से कमजोर लोगों के घर में किसी बीमारी के कारण व्यक्ति की मौत होती है तो ऐसी स्थिति में उन्हें अंतिम संस्कार के लिए पंचायत विभाग पांच हजार रुपये की आर्थिक सहायता मुहैया कराएंगा. यह प्रस्ताव ग्राम प्रधान की ओर से ग्राम पंचायत सचिव को दिया जाएगा.

यूपी में इन शहरों के लिए CM योगी का मास्टर प्लान, ऐसे होगा कोरोना कंट्रोल

इसके अलावा इसका लाभ पाने वालों में 44 गांव चिह्नित किए गए है. जिसके लिए संबंधित प्रधानों को निगरानी करने का निर्देश दिया गया है. इसके साथ ही प्रधानों को यह भी निर्देश दिया गया है कि अगर वे अपने क्षेत्र के अंतर्गत गंगा में किसी लाश के बहने की सूचना पाते है तो वे इसकी जानकारी संबंधित बीडीओ, एसडीएम आदि अधिकारियों को दे.

UP के अस्पतालों में कोरोना मरीजों से हुई अवैध वसूली तो खैर नहीं, CM योगी का आदेश

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें