सोनभद्र जिला कारागार में लगेगी ऑटोमेटिक नैपकिन बनाने की मशीन

Smart News Team, Last updated: 13/12/2020 11:43 PM IST
  • सोनभद्र जिला कारागार के कैदियों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए जिलाधिकारी की पहल पर जेल प्रशासन ऑटोमेटिक नैपकिन बनाने की मशीन का प्लांट लगाएगा. इसके लिए 10 लाख रुपए के बजट से प्लांट स्थापित करने का काम शुरू करा दिया गया है.
फाइल फोटो

वाराणसी. जब से जिलाधिकारी एस. राजलिंगम ने सोनभद्र जिले का कार्यभार संभाला है, तब से सोनभद्र जिले के चोपन थाना क्षेत्र के गुरमा गांव स्थित जिला कारागार हर दिन यहां के कैदियों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए नए प्रयोग किए जा रहे हैं. इससे पहले डीएम के प्रयास से यहां के कैदियों के लिए कोरोना काल में मास्क बनाने की मशीन का प्लांट भी लगाया जा चुका है. यही नहीं डीएम की अगुवाई में पर्यावरण का संदेश देने के लिए कारागार परिसर में बड़े स्तर पर पौधारोपण का भी अभियान चलाया जा चुका है. 

जिला कारागार में इन दिनों जन जागरूकता लाने वाले अभियानों के साथ ही बंदियों को आत्मनिर्भर बनाने का भी भरपूर प्रयास किया जा रहा है. कुटीर उद्योग के माध्यम से बंदियों की आई भी बढ़ाई जा रही है. यहां काम करके कैदी जो भी बचत करता है वह धनराशि उसके परिवार को सौंप दी जा रही है. इसी क्रम में जिलाधिकारी एस. राजलिंगम की पहल पर जेल प्रशासन ने रुपया 10 लाख की लागत से ऑटोमेटिक सेनेटरी नैपकिन प्लांट लगाने का काम शुरू कर दिया है.

वाराणसी: काशी के सिटी रेलवे स्टेशन पर बढ़ेगी ट्रेनों की फ्रीक्वेंसी

 जिला कारागार के अधीक्षक मिजाजी लाल कहते हैं कि ऑटोमेटिक सेनेटरी नैपकिन प्लांट से निकलने वाला उत्पाद सबसे पहले जिला कारागार में निरुद्ध महिला कैदियों के स्वास्थ्य एवं उन्हें संक्रमण से बचाने के लिए स्थापित किया जा रहा है. उत्पादन अधिक होने पर इस उत्पाद को खुले बाजार में भी बेचा जा सकता है. वही इस संबंध में जिलाधिकारी एस.राजलिंगम जेल प्रशासन के सहयोग से जेल में बंद कैदियों को आत्मनिर्भर बनाने के साथ ही उनकी आय में निरंतर वृद्धि करने को निरंतर प्रयास किया जा रहा है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें