देशभर की आईआईटी में प्लेसमेंट के मामले में नंबर वन पर बीएचयू

Smart News Team, Last updated: 15/12/2020 02:29 AM IST
  • बीएचयू में अन्य कई आईआईटी के मुकाबले कम ही संख्या में छात्रों का रजिस्ट्रेशन होता है, इसके बावजूद भी परिणाम अपेक्षा से कहीं ज्यादा हैं.
प्लेसमेंट के दौरान सबसे बेहतर प्रदर्शन आइआइटी बीएचयू का देखने को मिला है

वाराणसी. कोरोना काल में प्रौद्योगिकी संस्थानों के प्लेसमेंट को लेकर जहाँ काफी कमी आयी है, वहीं देशभर की आइआइटी में निखरने वाली प्रतिभाओं के लिए कोई कमी नहीं है. प्लेसमेंट के दौरान सबसे बेहतर प्रदर्शन आइआइटी बीएचयू का देखने को मिला है. प्लेसमेंट के मामले में आईआईटी बीएचयू के काफी छात्रों को प्लेसमेंट मिला है. प्लेसमेंट के जारी दो दिन के आंकड़ों में अभी तक केवल बीएचयू और रूड़की ने ही सार्वजनिक रूप से विवरण जारी किया है. इसके अनुसार बीएचयू 554 के साथ पहले व रूड़की 395 प्लेसमेंट के साथ दूसरे स्थान पर रहा.

कोरोना के बीच जहां अन्य प्रौद्योगिकी संस्थानों में प्लेसमेंट की संख्या घटी है तो वहीं आइआइटी-बीएचयू के लिए यह काफी शानदार सफर रहा. बीएचयू में अन्य कई आईआईटी के मुकाबले कम ही संख्या में छात्रों का रजिस्ट्रेशन होता है, इसके बावजूद भी परिणाम अपेक्षा से कहीं ज्यादा हैं. बीएचयू आइआइटी कैम्पस से कुल 554 छात्रों को चुना गया है. 

समितियों पर दीजिए दस किलो दूध तो मुफ्त मिलेगा एक किलो पशु आहार

वहीं एक दिन के कैंपस प्लेसमेंट में आइआइटी-बीएचयू का स्थान देश में दूसरा है. इसमें 406 प्लेसमेंट देकर पहले नंबर पर आइआइटी खडगपुर है. इस मामले में आइआइटी बांबे 308 के साथ तीसरे, आइआइटी मद्रास 305 के साथ चौथे व आइआइटी दिल्ली 300 के साथ पांचवें स्थान पर रहा. इस दौरान कानपुर में 226 व गुवाहाटी में 202 छात्रों का ही प्लेसमेंट हुआ.

आईआईटी बीएचयू निदेशक प्रो. प्रमोद कुमार जैन ने बताया कि बीएचयू का अध्ययन-अध्यापन विगत कोविड काल में भी काफी प्रभावपूर्ण रहा है. एक ओर जहां अन्य कई संस्थानों में परीक्षा व क्लास कराने को लेकर लेट-लतीफी देखी गई, वहीं इस संस्थान में सारे एकेडमिक कार्य समय से पहले निबटा लिए गए. इस दौरान वर्चुअल तौर पर कई टेक्निकल मंच विकसित किए गए, जिनसे छात्रों को अपने प्रैक्टिकल कार्य पूरे करने में कोई परेशानी नहीं हुई. उन्होंने कहा बेहतर प्लेसमेंट का काफी श्रेय उनके अध्यापकों को भी जाता है जिन्होंने समय रहते तकनीकी कुशलता का परिचय देते हुए अध्ययन व सीखने की कला को आसान बनाया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें