एशिया की क्यू एस रीजनल रैंकिंग मैं शामिल हुआ बीएचयू आईआईटी, बढ़ेगा रुतबा

Smart News Team, Last updated: 30/11/2020 08:17 PM IST
  • एशिया की क्यू एस रीजनल रैंकिंग में पहली बार हिस्सा लेने उतरी देश की नामचीन बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के आईआईटी संकाय को 300 से 350 के ब्लॉक में स्थान प्राप्त हुआ है. ही नहीं बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के मेन कैंपस को क्यों इस रैंकिंग में 180 वा स्थान पर रखा गया है.
एशिया की क्यू एस रीजनल रैंकिंग में पहली बार हिस्सा लेने जा रहा बनारस हिंदू विश्वविद्यालय

वाराणसी. बताते चलें कि क्यू एस रैंकिंग में बनारस हिंदू विश्वविद्यालय ने पहली बार हिस्सा लिया है. पिछले दिनों 11 बिंदुओं पर एशिया क्यू एस रीजनल की ओर से जारी की गई रिपोर्ट में बीएचयू की आईआईटी को 300 से 350 के स्लैब में स्थान दिया गया है. जबकि आईआईटी पेपर प्रति संकाय में 59, शैक्षणिक एवं अनुसंधान प्रतिष्ठा में 251 से 300 के स्लैब में स्थान दिया गया है. जबकि उद्धरण मैं क्यू एस रैंकिंग की जारी रिपोर्ट में बीएचयू आईआईटी को 212 वाँ स्थान प्राप्त हुआ है. यही नहीं क्यों इस रैंकिंग में बीएचयू के मेन कैंपस को एशिया के 180 वें पायदान पर जगह दी गई है .

वही भारत में बीएचयू यूनिवर्सिटी के मैन केंपस को 19वें स्थान पर रखा गया शोध के क्षेत्र में बीएचयू को उच्च स्थान के रूप में जगह मिली है. कुल वैश्विक रैंकिंग में बनारस हिंदू विश्वविद्यालय को 800 से 1000 के स्लैब में शामिल किया गया है.

काशी विद्यापीठ में सामान्य वर्ग की सीटों पर दाखिले के लिए मेरिट लिस्ट जारी

बीएचयू की इस उपलब्धि पर निदेशक प्रोफेसर प्रमोद कुमार जैन कहते हैं कि एनआईआरएफ 2020 तथा क्यू एस. रीजनल रैंकिंग 2021 के परिणाम उत्साहित करने वाले हैं. उन्होंने बताया कि संस्थान साल दर साल वैश्विक राष्ट्रीय एवं क्षेत्रीय रैंकिंग में बेहतर प्रदर्शन करता चला आ रहा है. कहा कि आने वाले सालों में बीएचयू और बेहतर प्रदर्शन कर अपनी साख में चौमुखी विकास करेगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें