जनवरी में गंगा में सीएनजी गैस से नाव चलाने को लेकर सीएनजी स्टेशन का निर्माण शुरू

Smart News Team, Last updated: 16/12/2020 12:56 AM IST
  • काशी को पर्यटन हब बनाने की कड़ी में अगले माह गंगा के पानी में सीएनजी नाव पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करने लगेगी. पायलट प्रोजेक्ट के तहत गंगा नदी में सीएनजी नाव चलाने को लेकर खिरकिया घाट पर अस्थाई रूप से सीएनजी फिलिंग स्टेशन का निर्माण कार्य शुरू करा दिया गया है.
अब गंगा में चलेंगी सीएनजी नाव

वाराणसी . बता दें कि धर्म अध्यात्म एवं पर्यटन के रूप में पहचान बना चुकी काशी के गंगा घाट घाट पर तकरी वन 1000 के करीब लाइसेंसी नावेद चलती है. अब तक यह नावे डीजल आधारित संचालित होती रही है. इतनी बड़ी संख्या में काशी के गंगा घाटों पर नाव के चलने से प्रदूषण की समस्या भी निकल कर सामने आने लगी है. यही नहीं डीजल महंगा होने के कारण नाविकों को भी कम बचत हो पा रही है. इन्हीं सब परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की पहल पर गंगा में सीएनजी इंजन की नावे चलाने का निर्णय लिया गया है. गंगा में यह नावे नई साल के अंत तक दौड़ाने के लिए कवायद शुरू कर दी गई है.

नावो के इंजन सीएनजी में तब्दील किए जाने लगे हैं. साथ ही सीएनजी सहजता से उपलब्ध कराने के लिए नगर निगम विभाग की ओर से काशी के खिड़कियां घाट पर अस्थाई रूप से सीएनजी फिलिंग स्टेशन का निर्माण भी शुरू करा दिया गया है. यह सीएनजी फिलिंग स्टेशन अस्थाई होगा जिसे एक माह में तैयार करा लिया जाएगा. आगे चलकर स्थाई सीएनजी फिलिंग स्टेशन 2000 वर्ग मीटर भूमि पर बनाया जाएगा.

रिहंद बांध के पानी में प्रदूषण की जांच करेगा सिंचाई विभाग

गेल इंडिया लिमिटेड के उप महाप्रबंधक गौरी शंकर मिश्रा बताते हैं कि इस अस्थाई सीएनजी फिलिंग स्टेशन पर 45000 लीटर सीएनजी गैस स्टोर की जा सकेगी. इस फिलिंग स्टेशन पर हल्के वाणिज्यिक वाहनों के माध्यम से गैस मंगाई जाएगी. जिसे इस स्टेशन पर स्टोर किया जाएगा. खिड़कियां घाट के जेटी पर डिस्पेंसर लगाया जाएगा इसी डिस्पेंसर से नावों में गैस भरी जाएगी. यह स्टेशन जनवरी माह के अंत तक बनकर तैयार हो जाएगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें