बिजलीकर्मियों की हड़ताल पर परेशानी से बचने डीएम ने तैयार किया बैकअप

Smart News Team, Last updated: 03/10/2020 03:24 PM IST
  • बिजलीकर्मियों की हड़ताल के समय सेवानिवृत कर्मचारी व अन्य लोग मोर्चे पर डट कर बिजली समस्याओं को बाधित ना होने देंगे. पूर्वांचल डिस्कॉम के निजीकरण के खिलाफ आज तीन अक्टूबर से बिजली कर्मचारियों की संभावित हड़ताल को लेकर प्रशासन ने व्यवस्था चुस्त दुरस्त रखने के प्रयास शुरू कर दिए हैं.
प्रातिकात्मक तस्वीर

वाराणसी: शुक्रवार को डीएम कैम्प कार्यालय में हुई अधिकारियों की बैठक में डीएम ने नौकरी से सेवानिवृत्त हो चुके बिजली कर्मचारियों व पॉलिटेक्निक या आईटीआई पास कर चुके लोग और बिजली का काम करने वाले लोगों के बारे में जानकारी माँगी है. इससे यह साफ अंदेशा जताया जा सकता है कि बिजलीकर्मियों की हड़ताल के समय सेवानिवृत कर्मचारी व अन्य लोग मोर्चे पर डट कर बिजली समस्याओं को बाधित ना होने देंगे.

डीएम कौशलराज शर्मा ने पंचायत विभाग ग्रामीण क्षेत्रों में नलकूपों व सामान्य विद्युत आपूर्ति सुचारू रखने हेतु ग्राम प्रधानों को चार-चार घंटे रोटेशन तहत टोली बनाने को निर्देशित किया. उन्होंने लाइन मैन चिह्नित करने व आईटीआई व पॉलीटेक्निक से पास आउट हुए लोगों की सूची तैयार करने के साथ तीनों तहसीलों के एसडीएम को निर्देश दिए कि अपने-अपने क्षेत्रों में माइग्रेंट की सूची उपलब्ध कराए जो बिजली का काम जानते हों.

हाथरस DM के पीड़ित परिवार को धमकाने से भड़के लोग, जयपुर में घर पर कचड़ा फेंका

सभी अस्पतालों, जलकल व टेलीफोन एक्सचेंज विभाग के अलावा उद्यमी कम से कम दो दिन के बैकअप में जनरेटर की व्यवस्था तैयार रखें. उन्होंने इस कार्य हेतु सैनिक कल्याण, समाज कल्याण, कृषि आदि विभागों को भी तैयार रहने को कहा है.

मुख्य कोषाधिकारी ने बताया कि विद्युत विभाग के कुल 2784 रिटायर्ड कर्मचारी हैं तो डीएम ने पिछले पांच वर्ष में सेवानिवृत्त विद्युत कर्मचारियों की सूची तैयार कर उपलब्ध कराने को निर्देश दिया. उन्होंने अन्य विभागों में विद्युत अभियंताओं की सूची भी मांगी.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें