सर्दी व खांसी लक्षणों को ना करें नज़रन्दाज,गंभीर हो सकती है स्थिति

Smart News Team, Last updated: 09/12/2020 09:15 PM IST
  • इन्फ्लुएंजा एक तरह का वायरस है, जो आपके श्वसन तंत्र को बुरी तरह प्रभावित करता है.इसकी शुरुआत खांसी, जुकाम और हल्के बुखार के साथ होती है.यह वायरस ड्रापलेट्स के रूप में हवा के माध्यम से एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुंचता है.
सर्दी खांसी को नज़रअंदाज़ करना पड़ सकता है भारी

वाराणसी . अमूमन रोज़मर्रा ज़िंदगी मे होने वाले सर्दी, खांसी-जुकाम रहने को बिल्कुल नज़रन्दाज मत करें. इस मामले ने लापरवाही ना दिखाते हुए अच्छे चिकित्सक की सलाह लेनी चाहिए. मामूली समझी जाने वाली यह बीमारी असल मे इन्फ्लुएंजा का संक्रमण भी हो सकती है. इस वायरस से 65 वर्ष से अधिक उम्र वाले, स्वास्थ्यकर्मी, कमजोर इम्युनिटी वाले व गंभीर रोग से ग्रषित व्यक्ति को खतरा है. वहीं कोविड-19 काल में यह बीमारी और भी बड़ा खतरा साबित हो सकती है.

डॉक्टरों के अनुसार इन्फ्लुएंजा एक तरह का वायरस है, जो आपके श्वसन तंत्र को बुरी तरह प्रभावित करता है. इसकी शुरुआत खांसी, जुकाम और हल्के बुखार के साथ होती है. यह वायरस ड्रापलेट्स के रूप में हवा के माध्यम से एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुंचता है. ये ड्रापलेट संक्रमित व्यक्ति के खांसने, छींकने या बात करने पर निकलता है जो सांस के जरिए सामान्य व्यक्ति के शरीर में पहुंचकर उसे बीमार बना देता है. किसी सामान को यदि आप छूते हैं और उसे संक्रमित व्यक्ति द्वारा कुछ समय पहले स्पर्श किया गया है तो आपके संक्रमित होने की पूरी उम्मीद बनी रहती है.

काशी से दिल्ली तक बनेगा हाई स्पीड रेलवे कॉरिडोर प्रोजेक्ट को मिली स्वीकृति

इन्फ्लुएंजा वायरस नाक, आंख व मुंह के रास्ते शरीर में प्रवेश करता है.यह वायरस सर्दियों में अधिक सक्रिय रहता है.हालांकि यह भी एक सामान्य फ्लू ही है। इसके अधिकतर मामले एक से डेढ़ सप्ताह में अपने आप ही ठीक हो जाते हैं. मगर कभी-कभी इसके कारण होने वाली जटिलताएं परेशानी खड़ी कर देती हैं. आमतौर पर इससे संक्रमित व्यक्ति को आराम और संतुलित आहार लेना चाहिए. वहीं तरल पदार्थों का सेवन संक्रमण ठीक करने में बहुत मददगार होता है. यदि किसी को पहले से ही फेफड़े का संक्रमण या मधुमेह की समस्या है तो इसे गंभीरता से लेने की जरूरत है. इसके उपचार में डॉक्टर्स एंटी वायरल दवा देते हैं. वहीं इन्फ्लूएंजा वैक्सीन इस रोग के विरुद्ध सबसे बेहतरीन सुरक्षा कवच साबित होती है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें