अब भू स्वामित्व की पहचान को सेवापुरी ब्लाक में उड़ेगा ड्रोन कैमरा

Smart News Team, Last updated: 10/12/2020 09:50 PM IST
  • ग्रामीण आँचल में सरकारी जमीन चिन्हित करने और अपने घरों में रह रहे गांव के लोगों को जमीन के सरकारी दस्तावेज उपलब्ध कराने के उद्देश्य से शुरू की गई भू स्वामित्व योजना ने अब काशी में पैर पसारने शुरू कर दिए हैं. 
फाइल फोटो

वाराणसी . बता दें कि काशी के सेवापुरी विकासखंड को नीति आयोग ने गोद ले रखा है. विकासखंड में होने वाले सभी प्रकार के विकास कार्यक्रमों पर नीति आयोग बारीक निगाह रखता है. विकासखंड परिक्षेत्र में 87 ग्राम पंचायतें हैं. जिनमें भारतीय सर्वेक्षण विभाग के अनुसार 47 गांवों का जॉन कैमरे के माध्यम से सर्वे कार्य पूरा करा लिया गया है.

विकासखंड की ग्राम पंचायतों में से 9 राजस्व गांव को शुरुआत में पायलट प्रोजेक्ट के तहत शुरू की गई भू स्वामित्व योजना में शामिल किया गया है. जिन गांवों में सर्वे कार्य पूरा कर लिया गया है उन गांवों के 150 से अधिक ग्रामीणों को उनके भी भूमि का मालिकाना हक संबंधी दस्तावेज 100 पर जा चुके हैं.मंडला आयुक्त दीपक अग्रवाल बताते हैं कि योजना के दूसरे चरण के लिए विकासखंड के गांवों में ड्रोन कैमरा उड़ाए जाने को लेकर एयरपोर्ट ट्रैफिक प्रभावित तकरीबन 10 किलोमीटर के एरिया को एयरपोर्ट ट्रेफिक कंट्रोल ने सर्वे करने की इजाजत दे दी है. उन्होंने बताया कि इस एरिया के 10-10 गांवों को ग्रुप में बात कर आगामी 25 दिसंबर तक सर्वे कार्य पूरा करा लिया जाएगा.

काशी विद्यापीठ के आठ पाठ्यक्रमों में प्रवेश हेतु जारी हुई सूची

मंडला आयुक्त ने बताया कि इसके लिए जिला पंचायत राज अधिकारी, जिला पंचायत के अधिकारी को निर्देश दे दिया गया है कि भूमि स्वामित्व योजना में अपेक्षित सहयोग प्रदान करें साथ ही इस योजना से वंचित रह गए गांव के लोगों को सूचीबद्ध कर उनकी भूमिका चिंतन करें. कि यह कार्य राजस्व विभाग का नहीं है पंचायतों को इसमें अहम भूमिका निभानी होगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें