वाराणसी: शारदीय नवरात्र में पाबंदी की बेड़ियों में जकड़ा दुर्गा महोत्सव

Smart News Team, Last updated: Thu, 5th Aug 2021, 8:04 AM IST
  • वैश्विक स्तर के कोरोनावायरस के चलते जिला प्रशासन की ओर से लगाई गई पाबंदियों के चलते नवरात्रि में दुर्गा महोत्सव के कार्यक्रम के लिए वाराणसी शहर में 166 स्थानों पर सुख की देवी मां दुर्गा की मूर्ति स्थापना नहीं कराई जा सकी है.
कोरोना वायरस से बचने के लिए त्योहारों पर लगी पाबंदियां

वाराणसी. कोरोनावायरस से बचाव के लिए जिला प्रशासन की ओर से नवरात्रि वह आने वाले दिनों के त्योहारों में तमाम पाबंदियां लगाई गई हैं. इन पाबंदियों में मूर्ति स्थापना पंडाल में सामाजिक दूरी मास की अनिवार्यता के साथी अधिकतम 200 लोगों की मौजूदगी को ही स्वीकृति प्रदान की गई है.

सनातन धर्म की देवी मां दुर्गा के नवरात्रे में कोरोनावायरस से बचाव की पाबंदियों के चलते दुर्गा महोत्सव के कार्यक्रम की मात्र औपचारिकता ही पूरी की जा रही है. कोरोनावायरस का ही असर है जिसके चलते शहर में कुल 459 स्थानों पर होने वाले दुर्गा महोत्सव कार्यक्रम सिमट कर मात्र 307 स्थानों पर ही रह गए हैं. इसके अलावा शहर भर में मात्र 116 पंडालों में ही कलश स्थापना की जा सकती है. इन पंडालों में शामिल होने वाले लोगों पर सामाजिक दूरी की अनिवार्यता व सीमित संख्या में मौजूदगी ही सुनिश्चित की गई है. इसके चलते नवरात्रि में माता के भक्तों का उत्साह ठंडा पड़ा हुआ है.

मौजूदा समय में शहर कोतवाली क्षेत्र में 12, आदमपुर थाना क्षेत्र में 13, दशाश्वमेध थाना क्षेत्र में 6, चौक थाना क्षेत्र में 8, लक्सा थाना क्षेत्र में 7,चेतगंज थाना क्षेत्र में 6, सिंगरा में 19, जेतपुरा में 6, कैंट थाना क्षेत्र में 8, शिवपुर थाना क्षेत्र 5, सारनाथ में 6, पांडेपुर में एक, भेलपुर में 21, लंका में 18, चोलापुर में 22, फूलपुर में 13, रोहनिया में 31, लोहता थाना क्षेत्र में 7 और जैसा थाना क्षेत्र के 9 स्थानों पर दुर्गा महोत्सव के पंडाल लगाए गए हैं.

दुर्गा महोत्सव कार्यक्रम के संबंध में जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने बताया कि करुणा महामारी को देखते हुए इस बार के दुर्गा महोत्सव कार्यक्रम में अधिकतम 200 लोगों की मौजूदगी के अलावा महामारी से बचाव के लिए मास्क की अनिवार्यता सामाजिक दूरी के साथी कार्यक्रम में शामिल होने वाले श्रद्धालुओं को प्रसाद के पैकेट वितरित करने की अनुमति होगी. खुला हुआ प्रसाद वितरित नहीं किया जाएगा महोत्सव के स्वयंसेवकों को नेम प्लेट भी लगानी होगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें