रबी फसलों के लिए 31 दिसंबर तक बीमा करा सकते हैं किसान

Smart News Team, Last updated: 10/12/2020 06:42 PM IST
  • इस बार रबी की फसलों के लिए प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत किसानों का बीमा कराने की अंतिम तिथि 31 दिसंबर निर्धारित की गई है. इसको लेकर शासन ने कृषि अधिकारियों को प्रचार प्रसार कर निर्धारित समय सीमा पर अधिक से अधिक किसानों को योजना के तहत फसली बीमा कराए जाने के निर्देश दिए हैं.
फाइल फोटो

वाराणसी. बता दें कि वाराणसी जनपद में साल 2019 के दौरान खरीफ और रबी दोनों फसलों के लिए 19257 किसानों ने अपनी फसलों का बीमा कराया था. फसलों का नुकसान होने पर 1778 किसानों ने खरीफ फसल के लिए कृषि बीमा योजना के तहत अपना क्लेम दाखिल किया इनमें 11 किसानों को छोड़कर 1767 किसानों को असली बीमा योजना के तहत उनके फसल के नुकसान की भरपाई की गई. वही 1410 किसानों ने रबी फसल के लिए नुकसान की क्षतिपूर्ति देने के लिए दावा किया था. जिनमें 650 किसानों का शासन की ओर से दावा स्वीकार कर लिया गया और उन्हें क्षतिपूर्ति का भुगतान कर दिया गया. जबकि 760 किसानों का दस्तावेज पूरे न होने के कारण दावे निरस्त कर दिए गए. इसी तरह साल 2020 में खरीफ फसल के लिए 10294 किसानों ने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत अपनी फसलों का बीमा कराया.

खास बात यह है कि इस बार फसलों का नुकसान ना होने के कारण किसी भी किसान ने क्षतिपूर्ति के लिए दावा नहीं किया. अब जबकि रवि फसली चक्र की शुरुआत हो गई है ऐसे में शासन की ओर से एक बार फिर किसानों को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत उनकी फसलों को नुकसान से भरपाई के लिए बीमित करने का निर्णय लिया गया है. शासन की ओर से किसानों को अपनी फसल की बीमा कराने के लिए 31 दिसंबर की अंतिम सीमा निर्धारित की गई है. प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना अधिक से अधिक लाभ किसानों को प्राप्त कराने के लिए कृषि निदेशक विनोद कुमार सिंह ने प्रचार प्रसार कराने के निर्देश दिए हैं. उन्होंने बैंकों साधन सहकारी समितियों सहकारी संघ के साथ ही ग्राम पंचायत स्तर पर प्रचार प्रसार कर निर्धारित समय पर अधिक से अधिक किसानों की फसलों को बीमित करने के निर्देश दिए हैं.

काशी विश्वनाथ मंदिर में पूजा करने पर प्रियंका गांधी के खिलाफ दर्ज केस खारिज

वही एलडीएम मिथिलेश कुमार ने जिले के सभी बैंकों को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना संबंधी बैनर पोस्टर बैंक परिसर मैं चस्पा किए जाने के निर्देश दिए हैं. इसी का नतीजा है कि गत दिवस बुधवार को जिले के 98 किसानों ने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत अपनी फसलों का बीमा कराया. किसानों की ओर से अब फसलों का बीमा कराने का सिलसिला शुरू हो गया है.

उधर डीडी कृषि विनोद कुमार सिंह ने बताया कि साल 2020-21 में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में मामूली परिवर्तन किया गया है. बताया कि जो किसान खेती के लिए बैंक से कर्ज लिए हैं यदि ऐसे किसान फसल बीमा योजना नहीं करना चाहते हैं तो उन्हें बैंक में इस बाबत लिख कर देना होगा. बताया कि फसल बीमा की अंतिम तिथि 31 दिसंबर के बाद बैंक से कर्ज लिए किसानों की ओर से लिखित रूप से बैंक को अपनी फसलों का बीमा ना कराने संबंधी दस्तावेज प्राप्त नहीं कराया गया तो बाद इसके बैंक स्वयं उनके खाते से फसल बीमा का प्रीमियम काटकर उनकी फसलों का बीमा कर देगा जिसका किसान को किस्त के रूप में भुगतान करना अनिवार्य होगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें