जयप्रकाश नारायण नेशनल सेंटर फॉर एक्सीलेंस इन ह्यूमैनिटीज की होगी शुरुआत

Smart News Team, Last updated: Sat, 9th Jan 2021, 5:21 PM IST
  • बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में मानवता और लोकतंत्र की बेहतर शिक्षा देने के लिए जल्द ही सामाजिक विज्ञान संकाय देश के पहले जयप्रकाश नारायण नेशनल सेंटर फॉर एक्सीलेंस इन ह्यूमैनिटीज की शुरुआत कर रहा है.
बीएचयू में जयप्रकाश नारायण नेशनल सेंटर फॉर एक्सीलेंस इन ह्यूमैनिटीज की होगी शुरुआत

वाराणसी: जयप्रकाश नारायण सेंटर फॉर एक्सीलेंस इन ह्यूमैनिटीज के सेंटर को बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में शुरू कराने के लिए भारत सरकार ने साल 2014-15 मई केंद्रीय बजट के दौरान सबसे पहले अपना विचार दिया था. जिसे विश्वविद्यालय प्रशासन की ओर से ठंडे बस्ते में डाल दिया गया था. 30 दिसंबर 2020 को केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने बनारस हिंदू विश्वविद्यालय को पत्र जारी कर कैंपस में जयप्रकाश नारायण के विचारों समय दुनियाभर के तमाम राजनीतिक चिंतकों के सिद्धांतों पर अध्ययन और शोध कार्य करने के लिए जेपी नेशनल सेंटर फॉर एक्सीलेंस इन ह्यूमैनिटीज सेंटर की शुरुआत करने को पत्र जारी किया था. इस पत्र के प्राप्त होते ही बीएचयू की ओर से इस सेंटर को संचालित करने की अब कवायद शुरू हो गई है.

केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय की ओर से आगामी 17 जनवरी तक सेंटर के प्रस्ताव व पारूप की विस्तृत रिपोर्ट बीएचयू से तलब की गई है. जैसे सामाजिक विज्ञान संकाय के डीन प्रोफेसर कौशल किशोर मिश्रा ने तैयार करना शुरू कर दिया है. संबंध में प्रोफेसर कौशल किशोर मिश्रा ने बताया कि इस सेंटर के लिए 9 करोड़ 70 लाख रुपए का बजट साल 2014-15 में जारी किया गया था. अब भारत सरकार के सहयोग से इस सेंटर को बेहतर ढंग से संचालित करने की दिशा में कदम आगे बढ़ा दिया गया है. उन्होंने बताया कि इस सेंटर को संचालित करने के लिए बजट में वृद्धि की जाएगी.

वाराणसी: ड्यूटी से लौट रहे BHU वार्ड बॉय की अज्ञात बदमाशों ने की पिटाई

बताया कि सेंटर के पाठ्यक्रम में मनोविज्ञान को मुख्य आधार बनाया गया है. जिसमें अंग्रेजी इतिहास भूगोल राजनीति विज्ञान मनोविज्ञान सामाजिक शास्त्र फैशन स्टडीज हिंदी और संस्कृत को शामिल किया गया है. उन्होंने बताया कि जल्द ही इस प्रस्ताव को तैयार कर केंद्र शिक्षा मंत्रालय समेत बीएचयू के एकेडमिक काउंसिल और कार्यकारी परिषद में रखा जाएगा जहां से स्वीकृति मिलने के बाद सेंटर अपने स्वरूप में आएगा.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें