काशी विद्यापीठ के आठ पाठ्यक्रमों में प्रवेश हेतु जारी हुई सूची

Smart News Team, Last updated: 09/12/2020 11:48 PM IST
  • विद्यापीठ अब तक 62 पाठ्यक्रमों में से 52 की प्रवेश सूची जारी कर चुका है. वह भी ज्यादातर पाठ्यक्रमों में अब तक सामान्य वर्ग की ही सूची जारी हुई है.
महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ ने आठ और पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए सूची जारी

वाराणसी. कोरोना काल में सबसे ज़्यादा प्रभावित होने वाली व्यवस्था शिक्षा ही है. व्यवस्था गड़बड़ाने के कारण अलग अलग विश्विद्यालय में प्रवेश हेतु छात्रों को काफी इंतजार करना पड़ रहा है. मंगलवार को महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ ने आठ और पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए सूची जारी की है. इस प्रकार विद्यापीठ अब तक 62 पाठ्यक्रमों में से 52 की प्रवेश सूची जारी कर चुका है।वह भी ज्यादातर पाठ्यक्रमों में अब तक सामान्य वर्ग की ही सूची जारी हुई है. बीए सहित करीब दस पाठ्यक्रम की सूची अभी जारी होना बाकी है.दाखिले में देरी के कारण परीक्षा में सीधा प्रभाव पड़ना भी तय है.

जारी सूची के सामान्य वर्ग की सीटों पर चयनित अभ्यर्थियों को आनलाइन शुल्क जमा करने की सूचना भी एसएमएस से भेज दी गई है. काशी विद्यापीठ कुलसचिव डा. एस एल मौर्य ने बताया कि शुल्क जमा करने के तीन दिन के भीतर अभ्यर्थियों को शुल्क रसीद व समस्त शैक्षणिक मूल अभिलेखों व उसकी दो-दो छायाप्रति के साथ संबंधित विभाग से संपर्क करना होगा. मूल अभिलेखों का भौतिक सत्यापन कराने के बाद ही अभ्यर्थियों को स्थाई प्रवेश मिलेगा. इस प्रकार अभ्यर्थियों को तीन दिन के भीतर गेटवे के माध्यम से शुल्क जमा करना होगा.तीन दिन में शुल्क जमा नहीं करने पर उनकी दावेदारी निरस्त कर दी जाएगी. इसके स्थान पर मेरिट के क्रम में दूसरे अभ्यर्थियों को शुल्क जमा करने का मौका दे दिया जाएगा.

स्मार्ट मीटर और अधिक बिजली बिल के खिलाफ संतों ने काशी में शुरू किया आमरण अनशन

मंगलवार को एमए (मासकाम व इतिहास), एमए/एमएससी (भूगोल व गृह विज्ञान, फूड एंड न्यूट्रिशन), एमएड, एमएसडब्ल्यू व एमफिल (हिंदी व मनोविज्ञान) प्रवेश की सूची जारी की गई है. फिलहाल बीए सहित दस पाठ्यक्रमों की मेरिट सूची अब भी लंबित पड़ी है.बीए की मेरिट सूची दो दिन के भीतर जारी होने की संभावना जताई जा रही है. प्रवेश में विलंब होने से परीक्षाएं भी प्रभावित होना तय हैं. प्रथम सेमेस्टर की परीक्षाएं मार्च से पहले करना विश्वविद्यालय के लिए संभव नहीं है. इसी प्रकार वार्षिक परीक्षाएं भी आगे जा सकती हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें