Navratri 2021: कलश स्थापना के लिए पूजा में जरूर शामिल करें ये चीजें, यहां देखें पूरी लिस्ट

Priya Gupta, Last updated: Sat, 25th Sep 2021, 11:22 AM IST
  • शारदीय नवरात्रि पूजा की तैयारियां भी शुरू हो चुकी है. भारत में दुर्गा पूजा बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है. पितृ पक्ष समाप्त होते ही 7 अक्टूबर से नवरात्रि शुरू हो जाएंगे.
कलश स्थापना के लिए पूजा में जरूर शामिल करें ये चीजें

शारदीय नवरात्रि शुरू होने में महज कुछ ही दिन बचे हैं. पूजा की तैयारियां भी शुरू हो चुकी है. भारत में दुर्गा पूजा बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है. पितृ पक्ष समाप्त होते ही 7 अक्टूबर से नवरात्रि शुरू हो जाएंगे. नवरात्रि में 9 दिनों तक 9 देवियों के अलग-अलग अवतार की पूजा की जाती है. हिंदु मान्यताओं के अनुसार 9 दिनों तक श्रद्धालु नौ दिन उपवारस रखते हैं और मां दूर्गा की पूजा करते हैं. पहले दिन कलश स्थापना की जाती है. इस दिन पूरे विधि-विधान के साथ पूजा अर्चना की जाती है.

कलश स्थापना करते समय कई पूजा सामग्री का होना बेहद जरूरी है. इसलिए पहले ही पूजा सामग्री की पूरी तैयारियां कर लें और लिस्ट बनाकर रख लें. ताकि पूजा में किसी तरह की कोई कोई दिक्कत न आए.

Navratri 2021: नवरात्रि के तीसरे दिन मां चंद्रघंटा की करें आरती और पढ़ें ये मंत्र, मिलेगा मनवांछित फल

सामग्री लिस्ट

लाल रंग की गोटेदार चुनरी, लाल रेशमी चूड़ियां, सिन्दूर, आम के पत्‍ते

लाल वस्त्र, लंबी बत्ती के लिए रुई या बत्ती, धूप, अगरबत्ती, माचिस

चौकी, चौकी के लिए लाल कपड़ा, नारियल, दुर्गासप्‍तशती किताब

कलश, साफ चावल, कुमकुम, मौली, श्रृंगार का सामान

दीपक, घी/ तेल, फूल, फूलों का हार, पान, सुपारी, मेवे

लाल झंडा, लौंग, इलायची, बताशे या मिसरी, कपूर, उपले

फल/मिठाई, चालीसा व आरती की किताब, देवी की प्रतिमा या फोटो, कलावा,

हवन के लिए आम की लकड़ी, जौ, धूप, पांच मेवा

घी, लोबान, गुगल, लौंग, कमल गट्टा, सुपारी, कपूर.

नौ अलग अलग रंग के शुभ कपड़े माने जाते हैं शुभ

नवरात्रि के नौ दिनों तक नौ अलग अलग रंग के शुभ कपड़े भी पहने जाते हैं. इन शुभ रंगों से माता रानी प्रसन्न होकर आशीर्वाद देती है. नौ शुभ रंगों का खास महत्व होता है.नवरात्र के पहले दिन मां शैलपुत्री की पूजा होती है. इस दिन पीले रंग का पोशाक पहनना शुभ माना जाता है. पीला रंग वैसे भी हर मौके के लिए शुभ माना जाता है. ये रंग शुभता का प्रतीक होता है.

नवरात्रि के दूसरे दिन माता मां ब्रह्राचारिणी की पूजा होती है. इस दिन हरे रंग के कपड़े पहनने चाहिए. तीसरे दिन मां चंद्रघंटा की पूजा होती है. इस दिन आप ग्रे रंग के कपड़े पहन कर मां दुर्गा को खुश कर सकते हैं. नवरात्रि के चौथे दिन भगवती दुर्गा के कुष्मांडा स्वरुप की पूजा की जाती है. इस दिन नारंगी रंग के कपड़े पहनना शुभ माना जाता है. पांचवें दिन मां स्कंदमाता की पूजा की जाती है. माता का यह स्वरुप प्रेम, स्नेह, संवेदना के लिए जाना जाता है. इस दिन सफेद रंग के कपड़े पहनने चाहिए.

नवरात्रि के छठे दिन मां कात्यायनी की पूजा का दिन होता है.इस दिन मां को पीले रंग का वस्त्र चढ़ाया जाता है और वहीं भक्तों को इस दिन लाल रंग पहनने चाहिए. नवरात्रि के सातवें दिन कालरात्रि यानी मां काली की पूजा होती है. इस दिन नीला रंग पहनना शुभ होता है. आठवें दिन मां दुर्गा की आठवीं शक्ति कही जाने वाली माता महागौरी की पूजा की जाती है. इस दिन गुलाबी रंग के कपड़े पहनकर पूजा करने का विधान है. नवरात्रि के नौवें दिन मां जगदंबा के सिद्धिदात्री स्वरुप की पूजा होती है. इस दिन बैंगनी कलर के कपड़े पहनना शुभ होता है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें