वाराणसी : अब हाईवे इंजीनियरिंग पर पीएचडी कोर्स कराएगा आईआईटी बीएचयू

Smart News Team, Last updated: Thu, 4th Feb 2021, 12:44 PM IST
  • देश की परिवहन व्यवस्था को विश्वस्तरीय स्वरूप प्रदान करने के लिए बुधवार को सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय तथा आईआईटी बीएचयू के बीच एक समझौते पर हस्ताक्षर हुए हैं. इसके तहत अब आईआईटी के शोधार्थी अधिकारी वैज्ञानिक और शिक्षाविद एक साथ सड़क सुरक्षा पर्यावरण और सामाजिक प्रभाव पर अध्ययन करेंगे.
आईआईटी बीएचयू में स्टार्टअप फंडिंग के लिए 50 लाख रूपये के दिए जाएंगे.(फाइल फोटो)

वाराणसी : सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के बीच हुए समझौते में आईआईटी बीएचयू 10 वर्षों तक सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय को तकनीकी मार्गदर्शन प्रदान करेगा शोध और विकास शिक्षण व प्रशिक्षण शिविर भी संचालित करेगा. समझौते पत्र पर सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के राज्य मंत्री जनरल वीके सिंह व आईआईटी के निदेशक प्रोफेसर प्रमोद कुमार जैन वाह महानिदेशक सड़क विकास व विशेष सचिव इंद्रेश कुमार पांडे ने हस्ताक्षर किए हैं. 

इस उपलब्धि पर आईआईटी के निदेशक प्रोफेसर प्रमोद कुमार जैन ने बताया कि यह समझौता राजमार्गों के विकास में रिसर्च व डेवलपमेंट शिक्षा व प्रशिक्षण कार्यों को महत्व देगा. वही मंत्रालय द्वारा चुने गए विषयों पर अनुसंधान कार्यक्रम के लिए पीएचडी कोर्स भी चलाएगा. इसके साथ ही संस्थान सड़क मान को दिशा निर्देशों प्रशिक्षण आदि के माध्यम से राजमार्ग विकास के लिए योजना व डिजाइन तैयार तो कराएगा ही साथ ही निर्माण संचालन और रखरखाव में भी प्रौद्योगिकी उन्नयन करेगा. 

वाराणसी: छूट रहा था एग्जाम, छात्रा के ट्वीट करने पर रेलवे ने दौड़ा दी ट्रेन

उन्होंने बताया कि इस समझौते के तहत देश की सड़कों को सुगम यातायात बनाने के लिए आईआईटी में राजमार्ग इंजीनियरिंग विषय पर कार्य किया जाएगा जिसमें मंत्रालय के अधिकृत अधिकारी और उनके साथ आईआईटी के 8 से 10 रिसर्च स्कॉलर्स काम करेंगे. मंत्रालय के अधिकारी संस्थान के मानदंडों का पालन करते हुए पीजी पाठ्यक्रमों में हिस्सा लेंगे और वह अपना शोध प्रबंध भी मंत्रालय को प्रस्तुत करेंगे.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें