अब काशी के ट्रामा सेंटर में प्लाज्मा व प्लेटलेट्स की सुविधा

Smart News Team, Last updated: Thu, 17th Dec 2020, 10:49 PM IST
  • काशी के बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के ट्रामा सेंटर मैं अब मरीजों के लिए प्लाज्मा व प्लेटलेट्स की सुविधा शुरू कर दी गई है. वही अस्पताल प्रशासन की ओर से ब्लड बैंक की क्षमता मैं वृद्धि करने का भी विचार किया जा रहा है.
बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में पांच करो रुपए की लागत से ट्रामा सेंटर का नया भवन बनकर तैयार हुआ

वाराणसी . बता दें कि बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में पांच करो रुपए की लागत से ट्रामा सेंटर का नया भवन बनकर तैयार हुआ है. इस भवन में 344 मरीजों के लिए बेड का इंतजाम है. आकस्मिक दुर्घटना के अलावा इमरजेंसी की स्थिति में यहां तकरीबन 70 से 100 मरीज प्रतिदिन इलाज कराने आ रहे हैं. जबकि ट्रामा सेंटर की ओपीडी में कोरोना से पहले तकरीबन 400 मरीज प्रतिदिन आया करते थे. कोरोना संक्रमण काल के मौजूदा समय में इन दिनों ओपीडी में 2 से 25 मरीज ही आ रहे हैं.

ट्रामा सेंटर में लगभग 15 से 20 मरीजों का इमरजेंसी ऑपरेशन होता है. कोरोना काल से पहले ट्रामा सेंटर में 20 मरीजों का इलेक्ट्रिक ऑपरेशन हुआ करता था लेकिन मौजूदा समय में अब केवल 8 मरीजों का ही प्रचलन इलेक्ट्रिक ऑपरेशन हो रहा है. अब तक इस ट्रामा सेंटर में मरीजों के लिए प्लाज्मा और प्लेटलेट्स की सुविधा नहीं थी. अब ट्रामा सेंटर प्रशासन की ओर से यह सुविधा शुरू करा दी गई है.

विंध्य कॉरीडोर परियोजना को निर्धारित समय पर पूरा कराने के लिए काम में आई तेजी

इस संबंध में ट्रामा सेंटर के आचार्य प्रभारी प्रोफेसर संजीव कुमार गुप्ता ने बताया कि अब ट्रामा सेंटर में प्लाज्मा और प्लेटलेट्स चढ़ाने की सुविधा शुरू हो गई है. उन्होंने बताया कि ट्रामा सेंटर के ब्लड बैंक की क्षमता को और बढ़ाए जाने पर विचार किया जा रहा है. फिलहाल ट्रामा सेंटर में ब्लड को केवल स्टोरेज करने की ही व्यवस्था है. इमरजेंसी के समय सर सुंदरलाल अस्पताल के ब्लड बैंक से सेवाएं ली जाती हैं. ट्रामा सेंटर के ब्लड बैंक की क्षमता में वृद्धि हो जाने के बाद अब मरीज या उनके परिजनों को परेशान नहीं होना पड़ेगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें