अब गंगा घाटों पर मनौती और सैर सपाटा के लिए जुटने लगे नव दंपति

Smart News Team, Last updated: 03/12/2020 09:09 PM IST
  • वैश्विक स्तर की कोरोना महामारी के चलते वीरान हुए काशी के गंगा घाटों की रौनक अब सहालग की शुरुआत होते ही बढ़ने लगी है. घाटों पर नव दंपति गंगा मैया की पूजा आराधना और मनौती पूरी करने के साथ ही मौज मस्ती और अठखेलियां करते दिखाई देने लगे हैं.
फाइल फोटो

वाराणसी . बता दें कि मार्च माह में कोरोनावायरस के चलते पूरे देश में लगे संपूर्ण लॉकडाउन और जून माह से अनलॉक डाउन प्रक्रिया के दौरान काशी के गंगा घाटों पर प्रशासनिक रोक के चलते सूनापन ने अपना डेरा जमा लिया था. अब जबकि कोरोनावायरस का संक्रमण काशी में कम होने और नवंबर माह में शादी विवाह व अन्य मांगलिक कार्यक्रमों के शुरू हो जाने के बाद से गंगा घाटों पर लोगों की चहल-पहल शुरू हो गई है.

इन दिनों गंगा के इस पार या उस पार आने वाले लोगों में ज्यादातर नव दंपति हैं जो शादी के बाद परिवार सहित गंगा मैया की पूजा साथ ही मनौती पूरी करने को जुट रहे हैं. घाटों पर आने वाले नव दंपतियों की मौज मस्ती और अंखियों के चलते यहां की रौनक पहले जैसी दिन दुगनी और रात चौगुनी होने लगी है. जिन लोगों का विवाह कार्तिक पूर्णिमा तक हुआ है वह अपनी अजीत रिवाजों के अनुसार काशी के गंगा घाटों पर आकर मां गंगा की पूजा आराधना के साथ ही पवित्र जल में स्नान व उन्हें चुनरी आदि वस्त्र अर्पित कर अपनी मनौती पूरी कर रहे हैं.

वाराणसी: चौक थाने में तैनात सिपाही ने फांसी लगाकर की आत्महत्या

पूजा आराधना के बाद वैवाहिक जोड़ी परिवार सहित घाटों का लुफ्त उठा रही है. कोई पवित्र गंगा नदी के जल में वोटिंग का आनंद उठा रहा है तो कोई गंगा घाट की रेत पर ऊंट की सवारी कर आनंदित हो रहा है. घाटों पर लोगों के आने से स्थानीय व्यापारी भी खुश नजर आ रहे हैं. नौकायन एवं ऊंट की सवारी कराने वाले कारोबारी भी अब घाटों की रौनक वापस लौटते देख खुशी से फूले नहीं समा रहे हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें