निहार रजला के गोमती नदी तट पर बनेगा पीपा पुल बाहरपुर और बनारस से जुड़ेगा संपर्क

Smart News Team, Last updated: 12/12/2020 03:30 PM IST
  • जौनपुर के लहरपुर को बनारस से सीधे जोड़ने के लिए शासन ने नियार रजला में गोमती नदी के तट पर पीपा पुल बनाए जाने का निर्णय लिया है. इसके लिए शासन की ओर से रुपया 47.69 लाख के बजट की स्वीकृति भी प्रदान कर दी गई है.
पुल के बन जाने के बाद वाराणसी से कई जिलों का सीधा संपर्क जुड़ जाएगा

वाराणसी. यूं तो जौनपुर और बनारस को जोड़ने के लिए तमाम पुल और सड़क है किंतु जौनपुर जिले के बहनपुर और निहार रजला क्षेत्र के आसपास के रहने वाले लोगों को वाराणसी आने के लिए लंबा चक्कर लगाना पड़ता है. यहां के लोगों का समय के साथ साथ अतिरिक्त पैसा भी खर्च होता है. इस क्षेत्र में रहने वाले लोगों की इस परेशानी को देखते हुए शासन ने निहार रजला में गोमती नदी पर पीपा पुल बनाए जाने का निर्णय लिया है. शासन की ओर से पीपा पुल बनाने की जिम्मेदारी लोक निर्माण विभाग को सौंपते हुए रुपया 47.69 लाख की धनराशि भी जारी कर दी गई है. निहार रजला में गोमती नदी का यह पुल 19 पीपे का होगा. इस पीपे पुल के निर्माण की जिम्मेदारी मिलते ही लोक निर्माण विभाग ने इसके निर्माण के लिए प्रयागराज की एक फर्म को टेंडर भी जारी कर दिया है.

हॉस्टल-लाइब्रेरी खोलने की मांग पर धरना दे रहे बीएचयू छात्र दो गुट में बंटे

इस पुल के बन जाने के बाद वाराणसी जिले के निहारडीह, बाबतपुर, हथियर, चाही रोना बेला आदि गांव के अलावा जौनपुर जिले के पत्रही दूध वाला मुंडा हरपुर मेहनाजपुर आदि दर्जनों गांव के ग्रामीणों का काशी से सीधा संपर्क तो जुड़ेगा ही वही उनके लिए काशी की दूरी भी 6 किलोमीटर तक कम हो जाएगी. पीपा पुल के निर्माण की सूचना मात्र से ही इन गांवों के लोग खुशी से गदगद हैं. रजला गांव के लालाराम, लहरपुर गांव के रामप्रकाश तथा रजला गांव के मनीष मिश्रा कहते हैं कि अब तक वाराणसी जाने के लिए हम लोगों को बन सकती पुल से होकर जाना पड़ता था जो समय की बर्बादी के साथ ही अतिरिक्त खर्चीला भी होता था इस पुल के बन जाने के बाद बहुत सहूलियत होगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें