प्लास्टिक कचरा निस्तारण अभियान, महिला विंग ने संभाली कमान

Smart News Team, Last updated: 20/10/2020 11:54 PM IST
  • पर्यावरण और मानव जीवन के लिए संकट बनता जा रहा प्लास्टिक बेस्ड कचरे का निस्तारण करने के लिए महानगर की महिलाओं ने कमान संभालते हुए महा अभियान की शुरुआत कर दी है. इसको लेकर मालवीय उद्यमिता संवर्धन केंद्र ने भी प्लास्टिक का क्रियात्मक उपयोग करअभियान की सहायता करने का फैसला लिया.
प्लास्टिक का सही तरीके से निस्तारण करने की ठोस योजना बनेगी

वाराणसी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सुझाव से प्रेरित होकर उनके ही संसदीय क्षेत्र की महिला शक्ति ने पर्यावरण और मानव जीवन के लिए खतरा बनी सिंगल यूज प्लास्टिक का क्रियात्मक उपयोग कर इस समस्या के निस्तारण का अभियान छेड़ दिया है. रश्मि मिश्रा एंड ग्रुप से जुड़ी तमाम महिला शक्तियों ने एकजुट होकर इस समस्या का समाधान करने का बीड़ा उठाया है.

अभियान की शुरुआत भी इस ग्रुप की महिलाओं द्वारा कर दिया गया है. प्लास्टिक बंधन, धरती वंदन नामक अभियान के तहत ग्रुप की महिलाएं घर घर जाकर बे बेस्ड प्लास्टिक के सामानों के साथ ही सिंगल यूज़ प्लास्टिक तथा प्लास्टिक की बोतलों को घर घर जाकर एकत्रित कर रही है.

गलती से ATM कार्ड गिरा तो साइबर फ्रॉड ने बैंक खाते से उड़ाए 25 हजार, केस दर्ज

ग्रुप की संचालिका रश्मि मिश्रा बताती हैं कि प्लास्टिक का सही तरीके से निस्तारण न करने की ठोस योजना के अभाव में समस्या दिन प्रतिदिन गंभीर होती जा रही है. इसके लिए अभियान की महती आवश्यकता है. लोगों को भी इसके प्रति जागरूक रहने की आवश्यकता है.

उन्होंने बताया कि उनके अभियान मैं ग्रुप की बंदना रघुवंशी आशा पांडे शिल्पी सिंह राजपूत डॉक्टर शारदा सिंह बीना सिंह शिवपुरा तिवारी प्रतिभा सिंह डॉक्टर स्वच्छता त्रिपाठी कदम दर कदम साथ दे रही है. यही नहीं महिला शक्ति के इस अभियान को संभल पहुंचाने के लिए वाराणसी का मालवीय उद्यमिता संवर्धन केंद्र भी सहयोग के लिए उठ खड़ा हुआ है.

केंद्र के प्रोफेसर पीके मिश्र ने बताया कि महिला शक्ति की एकजुटता अभियान को जरूर सफल करेगी. उन्होंने बताया कि ग्रुप की ओर से एकत्रित किए जा रहे बेस्ट प्लास्टिक के अलावा सिंगल यूज प्लास्टिक का संवर्धन कर इसे एक ईट की शक्ल देकर झोपड़ी मकान चबूतरा व दीवार बनाने के रूप में इस्तेमाल किया जा सकेगा. प्रोफेसर मिश्रा ने बताया कि एकत्रित की गई वेस्ट प्लास्टिक को खिलौने के साथ ही बिजली उत्पादन में भी प्रयोग किया जा सकता है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें