कल वेंडरों से ऑनलाइन मिलेंगे पीएम, वाराणसी के इन दो वेंडरों से हो सकती है बात

Smart News Team, Last updated: Mon, 26th Oct 2020, 3:01 PM IST
  • वाराणसी प्रशासन की ओर से दस वेंडरों का नाम चयनित करा जा चुका है.इसमें पीएमओ कार्यालय से दो वेंडरों के नाम की मुहर लग सकती है. कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दोनों से या समय कम होने पर एक वेंडर से ही बात कर सकते हैं.
पीएम कल ऑनलाइन करेंगे वेंडरों से बातचीत

वाराणसी. लाकडाउन के दौरान आर्थिक रूप से बर्बाद हुए वेंडरों की मदद के लिए शुरू की गई पीएम स्वनिधि योजना में चयनित वेंडरों से 27 अक्टूबर को सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ऑनलाइन बात करेंगे. योजना में शामिल देशभर के वेंडरों में वाराणसी के वेण्डर भी प्रधानमंत्री से ऑनलाइन रूबरू होंगे. इस बारे में जानकारी देते हुए नगर आयुक्त गौरांग राठी ने कहा कि मानस नगर कॉलोनी की मोड़ पर मोमाेज व काफी की दुकान लगाने वाले अरविंद कुमार मौर्या व इंग्लिशिया लाइन में चाट व गोलगप्पा बेचकर जीविका चला रहे वेंडर शशि का नाम प्रधानमंत्री कार्यालय भेजा जा चुका है.

 प्रशासन की तरफ से जिले से दस वेण्डरों को चयनित किया गया था लेकिन दो का ही नाम भेजा गया. ऐसा भी संभव हो सकता है कि कार्यक्रम की अवधि कम होने पर पीएम वाराणसी के सिर्फ एक वेण्डर से बात कर पाएं.वाराणसी डीएम कौशल राज शर्मा ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 27 अक्टूबर को पीएम स्वनिधि योजना में आनलाइन बैंक ऋण जारी करने के साथ वेंडरों से भी बात करेंगे.

यात्री कम तो फ्लाइट कैन्सल, एयरलाइन्स कंपनियां बदले में दे रहीं यह सुविधाएं

उनसे बात करने के लिए वाराणसी से वेंडरों का चयन कर लिया गया है. चयनित वेंडर अपनी दुकान से सीधे लाइव पीएम से बात करेंगे. इसके अलावा अन्य वेंडरों व एनआईसी के माध्यम से अधिकारियों को भी इस कार्यक्रम को लाइव दिखाने की तैयारी कर ली गयी है. 27 अक्टूबर से पूर्व ही यह तैयारी कर ली गयी है. उन्होंने बताया कि जिले में अब तक इस योजना से 25 हजार वेंडरों को लाभान्वित किया जा चुका है और दस हजार वेंडरों को तीन दिन में लाभान्वित कर दिया जाएगा.

आपको बता दें कि इस योजना की रैंकिग में पिछले 20 दिन से वाराणसी जिला टॉप पर है. योजना के अनुसार वेंडरों को दस हजार रुपये बैंक ऋण के रूप में 12 किश्तों में लौटाने की शर्त पर दिया जाएगा. इसके अलावा तय समय पर कर्ज चुकाने पर सात फीसद की सब्सिडी भी है. योजना के लाभ के लिए ऑनलाइन फार्म के जरिये जिले में 35 हजार कारोबारियों ने आवेदन किया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें