वाराणसी: यूपी बोर्ड परीक्षाओं की तैयारी शुरु,बढ़ेंगे परीक्षा केंद्र

Smart News Team, Last updated: 30/11/2020 08:31 PM IST
  • डीआइओएस ने जिले के सरकारी, अनुदानित व वित्तविहीन स्कूलों के प्रधानाचार्यों से विद्यालयों में उपलब्ध आधारभूत सुविधाएं बोर्ड की वेबसाइट पर पांच दिसंबर अपलोड करने का निर्देश दिया है.
हाईस्कूल व इंटरमीडिएट-2021 की परीक्षा के सफल संचालन के लिए यूपी बोर्ड ने अभी से तैयारी में शुरू कर दी

वाराणसी . हाईस्कूल व इंटरमीडिएट-2021 की परीक्षा के सफल संचालन के लिए यूपी बोर्ड ने अभी से तैयारी में शुरू कर दी है.कोविड -19 के चलते इस बार सोशल डिस्टेंसिंग के मद्देनजर केंद्रों को बढ़ाने की भी बात चल रही है. इसके लिए बोर्ड द्वारा केंद्र निर्धारण की आनलाइन प्रक्रिया भी शुरू कर दी गई है. केंद्र बनाने के लिए बोर्ड ने विद्यालयों उपलब्ध आधारभूत सुविधाओं की आनलाइन जानकारी मांगी है. बोर्ड से मिले निर्देशों के अनुपालन हेतु डीआइओएस ने जिले के सरकारी, अनुदानित व वित्तविहीन स्कूलों के प्रधानाचार्यों से विद्यालयों में उपलब्ध आधारभूत सुविधाएं बोर्ड की वेबसाइट पर पांच दिसंबर अपलोड करने का निर्देश दिया है. इसके अलावा इसकी हार्ड कापी डीआईओएस कार्यालय में भी अनिवार्य रूप से जमा करने का निर्देश दिए गए हैं.

विद्यालयों द्वारा वेबसाइट पर अपलोड सूचनाओं के आधार पर बोर्ड द्वारा साफ्टवेयर के माध्यम से आनलाइन केंद्रों का निर्धारण किया जाएगा. वहीं इस क्रम में दो विद्यालयों के मध्य दूरी की मैपिंग व जिओ टैगिंग भी कराई जाएगी. हालांकि मैपिंग प्रधानाचार्यों को मोबाइल फोन के माध्यम से स्वयं ही करनी है. वहीं अपलोड की गई आधारभूत सुविधाओं का जनपद स्तर पर भौतिक सत्यापन भी कराया जाएगा. इसके लिए जिलाधिकारी द्वारा जांच समिति गठित की जाएगी. यदि अपलोड सूचनाओं में कोई गड़बड़ी मिली तो संबंधित विद्यालय को केंद्रों की सूची से बाहर कर दिया जाएगा.

वाराणसी में साफ आसमान ने बढ़ाई गलन, न्यूनतम तापमान पहुंचा 12 डिग्री

केंद्रों के निर्धारण के लिए गत वर्ष की भांति वायर रिकार्डरयुक्त सीसी कैमरा भी होना अनिवार्य है.डीआइओएस डॉ वीपी सिंह ने समस्त कॉलेजों को कॉलेज में उपलब्ध सभी संसाधनों की सूचना सही-सही अपलोड करने का निर्देश दिया है. उन्होंने साफ किया कि इस दौरान त्रुटिपूर्ण व विसंगति होने पर इसकी पूरी जिम्मेदारी संस्था के प्रधानाचार्य व प्रबंधक की होगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें