काशी विश्वनाथ ज्ञानवापी मैदान में मिले 15वीं सदी के हिन्दू मंदिर के अवशेष

Smart News Team, Last updated: 04/09/2020 08:55 AM IST
  • काशी विश्वनाथ कॉरिडोर के निर्माण के दौरान गुरुवार को ज्ञानवापी मैदान में खुदाई में करीब पांच सौ साल पुराने मंदिर केअवशेष मिले हैं. अवशेषों में कमल दल और कलश की आकृति साफ दिखाई दे रही है. जांच के लिए शुक्रवार को पुरातत्व विभाग और बीएचयू के एक्सपर्ट्स की टीम ज्ञानवापी मैदान पहुंचेगी.
गुरुवार को ज्ञानव्यापी मैदान में खुदाई में मिले मंदिर के अवशेष

वाराणसी: काशी विश्वनाथ ज्ञानवापी में मैदान गुरुवार को करीब पांच सौ साल पुराने मंदिर के अवशेष मिले हैं. यह अवशेष उस वक्त मिला जब काशी विश्वनाथ मंदिर कॉरिडोर निर्माण के लिए ज्ञानवापी मैदान में शृंगार गौरी के पास खोदाई की जा रही थी. आपको बता दें कि दो साल पहले भी ज्ञानव्यापी के पूर्वी हिस्से में की प्राचीन दीवार को हटाने के समय भी कुछ पुरातन इमारत के अवशेष मिले थे.

जानकारी के मुताबिक पुरातत्व विशेषज्ञों की मानें तो प्राप्त अवशेषों को देख कर आसानी से कहा जा सकता है कि यह 16वीं सदी के मंदिरों की स्थापत्य शैली से मेल खाते हैं. अवशेष में कलश और कमल के फूल साफ तौर पर दिख रहे हैं इस प्रकार के कलश और कमलदल 15वीं-16वीं शताब्दी के हिंदू देवी-देवताओं के मंदिरों में देखने को मिलते हैं.

नई शिक्षा नीति 2020 ने खोले समग्र बहुविषयक शिक्षा के रास्ते: डॉ अमृता दास

ज्ञानवापी मैदान के पश्चिमी हिस्से में जिस जगह पर यह अवशेष मिला है, वहीं एक सुरंग जैसा बड़ा सुराख भी दिखाई दिया है.  बिना जांच के कहना मुश्किल है कि वहां सुरंग है या नहीं, लेकिन पत्थर के जो अवशेष मिले हैं,  वह बेशक चार सौ से पांच सौ साल पुराने हो सकते हैं. अवशेष की पूरी तरह टेस्टिंग करके ही उसकी प्राचीनता के बारे में सटीक जानकारी जुटाई जा सकती है। हो सकता है यह अवशेष उससे भी अधिक पुराने किसी मंदिर का हो. 

मुजफ्फरपुर: बदमाशों ने दुकानदार की आंख में मिर्ची पाउडर झोंक लूटे 60 हजार

जिला पुरातत्व अधिकारी सुभाष चंद्र यादव का कहना है कि पत्थर के अवशेष के स्थापत्य की शैली देख कर लगता है कि यह 15वीं-16वीं शताब्दी के आसपास का है. जहां तक सुरंग का सवाल है तो उसकी जांच किए बिना कुछ भी कह पाना आसान नहीं है. वहीं श्रीकाशी विश्वनाथ विशिष्ट विकास परिषद के सीईओ गौरांग राठी ने कहा कि गुरुवार की शाम ज्ञानवापी मैदान वाले हिस्से में एक पुराना स्ट्रक्चर मिला है. इसके बारे में विस्तार से जानकारी के लिए पुरातत्व विभाग और बीएचयू के विशेषज्ञों की टीम चार सितंबर यानी शुक्रवार को ज्ञानवापी मैदान आएगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें