Krishna Janmashtami 2021: इस साल बन रहा शुभ संयोग, जानें तिथि, मुहूर्त,पूजा विधि

Smart News Team, Last updated: Wed, 4th Aug 2021, 6:51 PM IST
  • हरेक वर्ष भाद्रपद मास की अष्टमी तिथि को जन्माष्टमी का त्योहार मनाया जाता है.श्री कृष्णा के भक्त इस पर्व का बेसब्री से इंतजार करते हैं. इस साल जन्माष्टमी पर शुभ संयोग भी बन रहे हैं.जानिए जन्माष्मी की तिथि, महत्व, शुभ मुहूर्त और पूजा विधि से जुड़ी सारी बाते.
श्री कृष्णा जन्माष्टमी 2021. फोटो साभार. 

श्री कृष्ण भगवान का जन्म भाद्रपद माह की कृष्ण पक्ष अष्टमी तिथि पर रोहिणी नक्षत्र में हुआ था.इसलिए हर साल पूरे हर्षोउल्लास के साथ बाल गोपाल का जन्मदिन मनाया जाता है. इस दिन घर और मंदिरों में जन्माष्टमी की खूब सजावट की जाती है. बाल गोपाल के झूले से लेकर पूरे मंदिर को फूल से सजाया जाता है. कृष्णा के जन्मोत्सव के रूप में मनाई जाने वाली जन्माष्टमी के त्योहार की धूम पूरे भारत में देखने को मिलती हैं. आइये जानते हैं इस साल जन्माष्टमी की तारीख, शुभ मुहूर्त और अन्य बातों के बारे में.

कब है जन्माष्टमी- इस साल श्री कृष्णा जन्माष्टमी 30 अगस्त को मनाई जाएगी.हिंदू पंचांग के अनुसार, भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि 29 अगस्त दिन रविवार को रात 11 बजकर 25 मिनट से शुरू होगी, जो कि अगले दिन 30 अगस्त को मध्यरात्रि 1 बजकर 59 मिनट पर समाप्त होगी. इसलिए श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का त्योहार 30 अगस्त को मनाया जाएगा. भगवान कृष्णा का जन्म भी आधी रात को हुआ था.

Sawan 2021:यहां होती है त्रेता युग के ‘जुड़वा शिवलिंग’ की पूजा, जानें रोचक बातें

पूजन मुहूर्त-पारण का समय- जन्माष्टमी के दिन श्री कृष्णा की पूजा का शुभ मुहूर्त 30 अगस्त, रात 11:59 बजे से देर रात 12:44 बजे तक का है. रोहिणी नक्षत्र का आरंभ 30 अगस्त, सुबह 06:39 बजे से हो रहा है, जिसका समापन 31 अगस्त को सुबह 09:44 बजे पर होगा. रोहिणी नक्षत्र के समय पारण किया जाएगा.

जन्माष्टमी पूजा विधि-बाल गोपाल को सबसे पहले दूध ,दही, घी, शहद औऱ गंगाजल से स्नान कराएं. इसके बाद बाल गोपाल का नए वस्त्र, फूल, गहने से श्रृंगार करें. चंदन और अक्षत से तिलक करें. माखन-मिश्री, तुलसी धनिए की पंजीरी, खीर, मिठाई, पंचामृत आदि का भोग लगाएं. धूप दीप जालएं. बाल गोपाल को झूले पर झुलाएं. भजन-कीर्तन और आरती करें.

इस साल जन्माष्टमी पर बन रहा शुभ संयोग-जन्माष्टमी के दिन सुबह 07 बजकर 47 मिनट के बाद हर्षण योग बन रहा है. ज्योतिष शास्त्र में हर्षण योग को बेहद शुभ माना जाता है. कहा जाता है कि इस समय किया गया हर काम शुभ होता है और उसमें सफलता मिलती है.

Sawan Shiv Mantra 2021:सावन में इस मंत्र के जाप से शिव की असीम कृपा होगी प्राप्त

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें