खराब हुई आबो हवा पर गंगा जल में बढ़ी शुद्धता

Smart News Team, Last updated: 05/12/2020 07:19 PM IST
  • क्षेत्रों में खुदाई की गतिविधियां काफी लंबित हैं और काम जल्दी संपादित ना हो पाने की वजह से हवा में धूल व प्रदूषक तत्वों की समस्या काफी बढ़ गई है।
फाइल फोटो

वाराणसी. वाराणसी में वायु प्रदूषण लगातार बढ़ता जा रहा है जो कि अब चिंताजनक हो गया है. शुक्रवार को शहर का एयर क्वालिटी इंडेक्स 349 पर दर्ज किया गया. देखा जाए तो यह आंकड़ा राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से बस 46 अंक ही कम रहा.इस वजह से शहर की आबो हवा खराब हो गयी और दिन भर धुंध का असर बना रहा. आंकड़ों के आधार पर वाराणसी प्रदूषित हवा के मामले में प्रदेश स्तर पर दूसरे स्थान पर रहा. वहीं एक्यूआई को देखें तो प्रदेश के सबसे प्रदूषित शहरों में 467 एयर क्वालिटी इंडेक्स के साथ कानपुर पहले और 453 अंक के साथ गाजियाबाद दूसरा सबसे प्रदूषित शहर रहा. इसके बाद राहत देने वाली खबर यह है कि गंगा जल में ऑक्सीजन का की मात्रा बढ़ रही है व शुक्रवार को गँगा जल की शुद्धता में बढ़ोत्तरी दर्ज हुई है. गंगा अपस्ट्रीम में घुलनशील आक्सीजन की मात्रा एक अंक बढ़कर 8.8 मिलीग्राम प्रति लीटर वहीं पीएच मान 8.32 रहा. जबकि गंगा की डाउन स्ट्रीम में घुलनशील आक्सीजन की मात्रा 7.4 और पीएच मान 8.44 दर्ज किया गया.

फिलहाल वायु प्रदूषण की स्थिति चिंताजनक है जिसकी वजह शहर के कई क्षेत्रों में खुदाई की गतिविधियां भी है.अर्दली बाजार से महावीर मंदिर, बीएचयू से सामनेघाट, ट्रामा सेंटर सेंटर से सीर गेट, पांडेयपुर से लालपुर व पहाडिय़ा, घंटाघर से मैदागिन, गौदोलिया से बेनियाबाग आदि क्षेत्रों में खुदाई की गतिविधियां काफी लंबित हैं और काम जल्दी संपादित ना हो पाने की वजह से हवा में धूल व प्रदूषक तत्वों की समस्या काफी बढ़ गई है.इसमें नियमों की अनदेखी करते हुए अंडर सड़क निर्माण, ग्राउंड बिजली और गैस पाइप की कंपनियों द्वारा जगह-जगह पर खुदाई चालू कर दी गयी है.

एमएलसी चुनाव: वाराणसी शिक्षक निर्वाचन पद पर सपा के लाल बिहारी यादव विजयी घोषित

प्राप्त आंकड़ों के अनुसार शहर की हवा में मौजूद मुख्य प्रदूषक तत्वों में पीएम 2.5 कणों की काफी मात्रा बरकरार रही. इस दौरान पीएम-2.5 अधिकतम 415 पर रहा वहीं पीएम-10 कण 437 के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया. इस बारे में प्रदूषण बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी ने बताया कि इन सभी निर्माण कार्य को यदि जल्द निबटा लिए जाए तो काफी हद तक समस्या का समाधान सम्भव है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें