पंचकोशी यात्रा पर रामेश्वर पहुंचा श्रद्धालुओं का जत्था, बदइंतजामी से आक्रोश

Smart News Team, Last updated: 21/09/2020 09:54 PM IST
पंचकोशी यात्रा के दौरान श्रद्धालुओं में प्रशासन के तरफ से बदइंतजामी को लेकर लोगों में आक्रोश है. यात्रा के दौरान आवश्यक इंतजाम नहीं होने के कारण श्रद्धालुओं को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है.
वाराणसी में पहुंचे श्रद्धालुओं का जत्था

वाराणसी. पंचकोशी यात्रियों का दल सोमवार को कई टुकड़ियों में सुबह हर-हर महादेव के उदघोष के साथ रामेश्वर मंदिर पहुंचा. पंचकोशी मार्ग के तीसरे तीर्थ पड़ाव स्थल रामेश्वर मंदिर के दौरान श्रद्धालुओं में प्रशासन के ओर से बदइंतजामी के कारण गहरा आक्रोश है. प्रशासन की उदासीनता से श्रद्धालुओं को यात्रा में काफी कठिनाई हो रही है. पंचकोशी यात्रा के दूसरे दिन तीर्थ यात्रियों की संख्या काफी कम थी.जो लोग यात्रा में आये उनके मन में श्रद्धा का भाव देखने को मिला.

जानकारी के अनुसार पंचकोशी यात्रा में वाराणसी जिले के अलावा मध्य प्रदेश, बिहार सहित अन्य जिलों के यात्री शामिल थे। पंचक्रोशी यात्रा के प्रथम पड़ाव कन्दवा, दूसरा भीमचंडी व तीसरे तीर्थ स्थल रामेश्वर में पहुंचे श्रद्धालुओं ने बताया कि इस बार जिला प्रशासन के द्वारा तीर्थ स्थल के पड़ावों पर कोई भी व्यवस्था नहीं की गई है.इससे हमें यात्रा में काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है.

वाराणसी: कोरोना काल में रविवार से 9 घंटे के लिए खुलेगा संकट मोचन मंदिर

श्रद्धाभाव लिए यात्रियों का दल जब रामेश्वर पहुंचा तो प्रशासन के बदइंतजामी देख कर यात्री धर्मशाला की जगह बाग-बगीचों में रुक कर सहारा ले रहे थे. लोगों ने यह भी बताया कि रामेश्वर में कुल आठ धर्मशालाएं हैं. इन धर्मशालाओं में तीन में पुलिस चौकी, स्कूल, टेंट हाउस ने शरण ले रखी है. एक धर्मशाला बंद है. जबकि अन्य जर्जर हाल में पड़ी हुई हैं। इस कारण यात्रियों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. जो धर्मशाला जर्जर हैं उनमें इतनी गंदगी है कि यात्री उनकी जगह बगीचों में ही रुकना पड़ रहा है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें