वाराणसी: राजकीय महिला अस्पताल में सुविधाओं का अभाव, समस्याओं का दंश झेल रहे मरीज

Smart News Team, Last updated: Mon, 28th Sep 2020, 3:08 PM IST
वाराणसी:शासन की ओर से प्रदेश भर में स्वास्थ्य सेवाओं को दुरस्त किए जाने का लाख दावा किया जा रहा हो लेकिन बनारस क्षेत्र के पीडीडीयू नगर स्थित राजकीय महिला चिकित्सालय में व्याप्त समस्याओं से मरीजों को हो रही परेशानी सरकारी दावों की पोल खोलती नजर आ रही है.
राजकीय महिला चिकित्सालय की तस्वीर

वाराणसी: पीडीडीयू नगर स्थित राजकीय महिला चिकित्सालय मरीजों के लिए एक समस्या बनकर रह गया है. सुविधाओं के अभाव में अस्पताल में आने वाले मरीजों को डॉक्टरों के द्वारा दिए जाने वाले एक्स-रे और अल्ट्रासाउंड कराने केपरामर्श पर मरीजों को अस्पताल के बाहर संचालित एक्स-रे और अल्ट्रासाउंड की दुकानों पर जाने को मजबूर होना पड़ रहा है. जिससे उन्हें इन जांचों की एवज में 250 रुपये से लेकर 1000 रुपए का आर्थिक बोझ भी सहना पड़ रहा है. बता दें कि राजकीय महिला

चिकित्सालय में 2004 में तत्कालीन अधिकारियों के रहमो करम के चलते एक अल्ट्रासाउंड मशीन की सौगात मिली थी. लेकिन मशीन खराब होने के बाद से आज तक ना तो वह ठीक कराई जा सकी और ना ही अस्पताल को दूसरी मशीन ही उपलब्ध कराई गई. ऐसे में मरीजों को इस सुविधा से वंचित रहना पड़ रहा है. बता दें कि अस्पताल में पीडीडीयू नगर सहित आसपास क्षेत्र के प्रतिदिन 200 ढाई सौ मरीज आते हैं.

मुन्ना बजरंगी के गुर्गे मेराज अहमद को शरण देने वाला उसका भांजा गिरफ्तार

इसको देखते हुए उच्चाधिकारियों की सहमति के बाद अस्पताल प्रशासन ने पीएम मातृत्व सुरक्षा अभियान के तहत मरीजों को अल्ट्रासाउंड व एक्स-रे की आवश्यकता पडऩे पर एक निजी जांच केंद्र से अनुबंध कर रखा है. जिसके लिए माह की नौ तरीख तय की गई है। मरीजों को सिर्फ एक ही दिन के लिए दिए जा रही इस सुविधा से मरीजों को राहत मिलती नजर नहीं आ रही है.यही नहीं अस्पताल में महिला चिकित्सकों व पैरामेडिकल स्टाफ की कमी के चलते दूरदराज के क्षेत्रों से आने वाली महिला मरीजों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है.

इस संबंध में राजकीय महिला चिकित्सालय पीडीडीयू नगर के प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डॉ. आकिफ ने बताया कि अस्पताल में व्याप्त समस्याओं के संबंध में उच्चाधिकारियों को अवगत कराया जा चुका है. यही नहीं पत्राचार के माध्यम से चिकित्सकों को बढ़ाए जाने के साथ-साथ जरूरी उपकरणों की भी मांग की गई है. उम्मीद है जल्द ही समस्या का निदान हो जाएगा.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें