वाराणसी: इस दीवाली चीन से व्यापार खत्म करने को लामबंद हुए पूर्वांचल के व्यापारी

Smart News Team, Last updated: 19/10/2020 04:18 PM IST
  • इस अभियान के जरिये जरिये चीन को पूर्वांचल में 4 हजार करोड़ रुपये के व्यापार का नुकसान होना तय है. दिवाली तक चलने वाले कैट के अभियान को व्यापक समर्थन भी मिल रहा है.
यह दिवाली स्वदेशी वाली

वाराणसी. चीनी उत्पादों के बहिष्कार के जरिये इस नवरात्र से दिवाली तक पूर्वांचल में चीन के हिने वाले लगभग 4 हजार करोड़ के व्यापार के पर कतरने की तैयारी में व्यापारी जुट गए हैं. व्यापारियों के संगठन कैट यानी कंफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स ने इस दीपावली को स्वदेशी दीपावली के रूप में मनाने का अभियान शुरू किया है. कैट के पूर्वांचल प्रभारी अखिलेश मिश्रा ने कहा कि दीपावली पर पूर्वांचल में लगभग 4 हजार करोड़ के चीनी उत्पाद की बिकवाली होती रही है पर इस बार एक भी चीनी उत्पाद नहीं बेचा जाएगा.

चीन के तानाशाही रवैये और भारत के साथ संबंधों में बढ़ती कटुता से चीन के देश में फैल रहे व्यापार पर तलवार चलना बहुत आवश्यक है. पूर्व की तरह इस दीपावली पर सोशल मीडिया के जरिये जहाँ देश के उपभोक्ताओं ने चीनी उत्पादों का बहिष्कार करने हेतु अभियान छेड़ा है वहीं इसका बीड़ा अब पूर्वांचल के व्यापारियों ने भी उठाने की ठान ली है.

दीपावली के त्योहारी मौके पर खास तौर से इलेक्ट्रॉनिक एवं इलेक्ट्रिकल सामान, खिलौने, होम फर्निशिंग, किचेन एसेसरीज, गिफ्ट आइटम्स, दिवाली की पूजा और सजावट का सामान आदि बड़ी मात्रा में चीन से आकर बिकता है.

इस बार ऐसा नहीं होगा व्यापारी केवल स्वदेशी सामानों की खरीद और बिक्री को ही वरीयता देगा. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के लोकल पर वोकल एवं आत्मनिर्भर भारत को वास्तविकता में करके दिखाया जाएगा. इस अभियान के जरिये जरिये चीन को पूर्वांचल में 4 हजार करोड़ रुपये के व्यापार का नुकसान होना तय है. दिवाली तक चलने वाले कैट के अभियान को व्यापक समर्थन भी मिल रहा है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें