वाराणसी की बेटी का कमाल, अब इमरजेंसी में लड़कियों की रक्षा करेगा 'हैंड ग्रेनेड'

Smart News Team, Last updated: Sat, 12th Sep 2020, 9:27 PM IST
  • मुश्किल समय में महिलाएं इस हैंड ग्रेनेड की मदद से फायर भी कर सकती हैं. इस डिवाइस में सिम कार्ड लगाया जाता है जो मुश्किल समय में एक साथ पांच लोगों को ऑटोमैटिक कॉल करता है. 
काशी की बेटी का कमाल

वाराणसी. गंगा किनारे बसी काशी की एक होनहार बेटी ने महिला सुरक्षा के लिए एक हैंड ग्रेनेड तैयार किया है. इस हैंड ग्रेनेड की मदद से इमरजेंसी में महिलाएं अपनी सुरक्षा कर सकेंगी. खास बात है कि अगर कोी परेशानी आती है तो यह हैंड ग्रेनेड परिवार और पुलिस को भी सूचना देगा. पीएम के आत्मनिर्भर भारत अभियान से प्रेरित होकर काशी की बेटी ने इसे तैयार किया है.

पीएम नरेंद्र मोदी के आत्मनिर्भर भारत और मेक इन इंडिया अभियान से प्रेरणा लेकर काशी की रहने वाली रचना राजेन्द्र ने तरह का वीमेन सेफ्टी डिवाइस तैयार कियाजिसकी कीमत सिर्फ 650 रुपये है. मुश्किल समय में महिलाएं इस विमिन सेफ्टी हैंड ग्रेनेड से फायर कर सकती हैं. फायरिंग करने पर सिर्फ तेज आवाज होती है और सबसे खास बात यह है कि इस डिवाइस के सारे पार्ट इंडियन हैं.

महज 650 रुपये में काशी की बेटी रचना राजेन्द्र ने 'विमिन सेफ्टी हैंड ग्रेनेड' बनाया है. मुश्किल समय में महिलाएं इस 'विमिन सेफ्टी हैंड ग्रेनेड' की मदद से फायर भी कर सकती हैं. इसके साथ ही हैंड ग्रेनेड को महज जमीन पर फेंक देने से महिला के घरवालों सहित पुलिस को ये डिवाइस फोन के साथ ही लोकेशन की भी जानकारी देगा. इस डिवाइस में सिम कार्ड लगाया जाता है, जो मुश्किल समय में एक साथ पांच लोगों को ऑटोमैटिक कॉल करता है. चार महीने की मेहनत करके युवा वैज्ञानिक श्याम चौरसिया के सहयोग से इसे तैयार किया गया है.

SP नेताओं ने निकाला योगी सरकार के खिलाफ मार्च, पुलिस ने BHU गेट पर लिया ज्ञापन

रचना राजेन्द्र ने पीएमओ को पत्र लिख कर इस डिवाइस की जानकारी दी है. इस डिवाइस को बनाने में किसी भी तरह के चाइनीज सामानों का उपयोग नहीं किया गया है. इस डिवाइस का एक-एक पार्ट इंडियन है. रचना ने बताया की इन डिवाइस को बाजार में लाने के लिए उन्होंने पीएम मोदी को पत्र लिखकर उन्हें इसकी खूबियां बताई है. रचना ने बताया कि यदि पीएमओ की ओर से उन्हें हरी झंडी मिली तो जल्द ही इसका डेमंस्ट्रेशन कर वो इस डिवाइस को बाजार में लाएंगी।

बेटे का हिंदू नाम रखने पर उबल पड़ा आफताब, कलह से तंग आकर पूजा ने दे दी जान

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें