डीएम की टीम रही कामयाब पीएम स्वनिधि योजना में टॉप पर पहुंचा वाराणसी

Smart News Team, Last updated: 07/10/2020 01:06 PM IST
  • वाराणसी: पीएम स्वनिधि योजना में जिस तरह से डीएम के निर्देशन में बैंक और डूडा ने तेजी दिखाई तो वाराणसी अब पहले पायदान पर पहुँच गया है.
पीएम स्वनिधि योजना की रैंकिंग में वाराणसी पहले नंबर पर

वाराणसी. पीएम स्वनिधि योजना की रैंकिंग में वाराणसी ने अब पहले नंबर पर अपनी उपस्थिति दर्ज करा ली है. कुछ दिन पूर्व तीस हजार लोगों को योजना के जरिये लाभान्वित कराने के लक्ष्य से आगे जाकर और तय समय से दो दिन पहले पूरा कर लखनऊ और कानपुर को पीछे छोड़कर वाराणसी दूसरे नंबर पर क़ाबिज़ हो गया था और अहमदाबाद पहले नंबर पर था. फिलहाल रैंकिंग हेतु इस योजना के मानकों पर बदलाव की वजह से वाराणसी अब रैंकिंग में देश के पहले पायदान पर पहुँच गया है.

योजना की रैंकिंग के मानकों में बदलाव इसका मुख्य कारण रहा. केंद्र सरकार ने सोमवार रात दस बजे के बाद रैंकिंग का मुख्य विषय योजना की उपलब्धियों को निर्धारित कर दिया. इस योजना में कितने लाभार्थी के खाते में धनराशि गई. चूंकि बनारस 7,637 लाभार्थियों को ऋण मुहैया करा चुका है. इसलिए अहमदाबाद को पछाड़ कर टॉप पर काबिज हो गया. रैंकिंग में दूसरे स्थान पर इंदौर, तीसरे पर भोपाल व चौथे पर जबलपुर भी आ गए हैं.

वाराणसी: बिजली कर्मचारियों की हड़ताल खत्म, पूर्वांचल विद्युत निगम का निजीकरण टला

यूपी का जिला प्रयागराज (सातवें) भी टाप टेन में जगह बनाने में सफल रहा.

महामारी के दौर में लॉक डाउन के दौरान शहरी क्षेत्र में पटरी दुकानदारों के नुकसान की भरपायी हेतु केंद्र सरकार द्वारा इस योजना को उतारा गया. इस योजना के तहत चयनित वेंडरों को दस हजार रुपये की बैंक द्वारा आर्थिक मदद दी जाती है जो कि 12 किश्तों में जमा करनी पड़ती है. इस योजना की खास बात यह है कि समय से किश्तें अदा कर देने पर सात प्रतिशत सब्सिडी का भी फायदा दिया जाता है. इसके बाद भी इसी तरह राशि पुनः आगे मिल जाती है. इस योजना में चयनित वेंडर को सिर्फ 10 हजार की लोनिंग की ही व्यवस्था नहीं बल्कि आगे इसी आधार पर आवास समेत अन्य योजनाओं से भी लाभान्वित किया जाएगा.

इससे पूर्व दूसरे स्थान पर आने के बाद से ही डीएम कौशलराज शर्मा के नेतृत्व में डूडा व बैंकों की टीम बनारस को टॉप पर काबिज कराने को लेकर मेहनत कर रही थी. डीएम ने उपलब्धि का श्रेय डूडा सहित पूरी टीम को दिया है वहीं डूडा के परियोजना अधिकारी भी इस उपलब्धि का श्रेय डीएम के कुशल नेतृत्व और निर्देशन के साथ बनी टीम और बैंक द्वारा रात दिन की गई मेहनत को देते हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें