मानव काया को निरोगी बनाएगा वैदिक विज्ञान केंद्र का वेदामृत अवलेह

Smart News Team, Last updated: Wed, 10th Feb 2021, 10:15 PM IST
  • बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के वैदिक विज्ञान केंद्र ने मानव का आया को निरोगी रखने तथा त्वचा की चमक बरकरार रखने के लिए वेदामृत अवलेह तैयार किया है. यह अवलेह से शक्ति प्राप्त और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाला तथा पाचन तंत्र को ठीक रहने का दावा किया गया है.
बनारस हिंदू विश्वविद्यालय

वाराणसी. बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर राकेश भटनागर ने मंगलवार को वैदिक विज्ञान केंद्र की ओर से तैयार किए गए इस वेदामृत अवलेह को लांच करते हुए कहा कि यह अवलेह शक्तिप्रद और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाला तो है ही साथ ही यह पाचन तंत्र को भी ठीक करता है. इसके मानव शरीर को कई तरह के फायदे होंगे, जिससे मानव को निरोगी काया का सुख प्राप्त हो सकेगा.

वैदिक विज्ञान केंद्र के समन्वयक प्रोफेसर उपेंद्र त्रिपाठी ने वेदामृत अवलेह के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए बताया कि यह क्षय शोथ हृदय रोग श्वर भंग निर्मलता कास सांस प्यास वात रक्त नेत्र रोग मूत्र वीर्य के दोष वात पित्त और कब के रोगों में लाभकारी है. यह अवलेह सभी आयु वर्ग के लोग प्रयोग कर सकते हैं.

वाराणसी : लंका और तरना के बीच लाइट मेट्रो चलाने की तैयारी

उन्होंने बताया कि इसके निर्माण में ताजे आंवले प्राकृतिक केसर गोघट तेल तैल और शहद युक्त विभिन्न जड़ी बूटियों का उपयोग किया गया है. उन्होंने बताया कि इस अवलेह को बनाने के लिए वैदिक विज्ञान केंद्र ने अपने यूट्यूब चैनल पर वीडियो अपलोड किया है. इसका प्रयोग कैसे करना है, कब-कब करना है आदि के बारे में तमाम जानकारी वीडियो को देखकर प्राप्त की जा सकती है. इसका सेवन किन रोगों से बचाने में सहायक है और इसकी रोग प्रतिरोधी क्षमता और इसके सेवन के बेहतर परिणामों के बारे में पता चल सकेगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें